सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

10 key Qualities That Make You Unforgettable person for ever





 दोस्तों,  हमने अपने जीवन में ऐसे कुछ लोगो को देखा है जिसको हम  कभी भूल नहीं पाते। इसलिए नहीं को वह लोग बहुत ही सुन्दर होते है या उनके पास बहुत ही पैसा होता है। खूबसूरत और पैसेवालों  ऐसे लोगो से हम प्रभावित  होते है मगर कुछ क्षण या दिनों के लिए। लेकिन मैं जैसे लोको के बारे में कह  रही हु उनमे बात ही कुछ निराली होती है। कुछ लोग का स्वाभाव ही ऐसा होता है की हम उसको कभी भूल नहीं पाते।

मेरी एक दोस्त थी। वह अपनी सहेले शोभना की बहोत ही बखान किया करती थी। मैं देखती   थी  की उस बखान में कोई स्वार्थ या प्रभावितता नहीं थी। मगर एक अहोभाव जरूर था। वो मुझे बार बार उससे मिलने के लिए कह रही थी की, 'एक बार आप उसको जरूर मिलना।' उसके इतने कहने के बाद  मैंने उससे  मिलने की इच्छा जताई तो वह बहुत ही खुश हो गई और उसी वीकेंएन्ड उसने हमको मिलाने का प्रोग्राम बनाया।  

 जब मैंने उसको देखा तो वो मेरी imagination से बिलकुल अलग ही थी। मुझे लगा की वो बहुत खूबसूरत और फेशनेबल होगी, मगर जब  मैंने शोभना को देखा तो वो उससे बिलकुल ही विपरीत एक average कद काठी की और बहुत ही सिंपल इंसान थी। अब मुझे शोभना में ज्यादा ही इंट्रेस्ट आया। और मैं उसको जानने में ज्यादा ही उत्सुक थी। जब धीरे धीरे हम फ्रेंड बने तो मैन जाना की जो भी शोभना से मिलता वह उसका कायल हो जाता।  वह उसको कभी नहीं भूल पाता।

दोस्तों, आज हम बहोत ही अच्छे friend है। उसमे कुछ ऐसी विशेषताए है जिसको भूलना मुश्किल हो जाता है। ये ऐसी विशेषता है जिसको अपना के हम भी अपने रिश्तो को अच्छा कर सकते है। और आसानी से दुसरो जुड़ सकते है। 

1 Being a natural giver (दाता बने)

जब 'शोभना' एक फ्रेंड नेहा के husband की जॉब चली गई तो शोभना सामने से उसके घर गई और उसको  कहा की, " मेरा एक घर ख़ाली है आप वहा आके रह सकते है, ताकि आपको किराया न देना पड़े।" और जब उनको 6 महीने के बाद जॉब लग गई तो नेहा ने पहले 6 महीने का किराया देने को कहा और वही पे रहने की इच्छा जताई तो शोभना ने तुरंत ही मना कर दिया।  

उसने कहा की, " अगर आप यहाँ पे रहना  चाहते हो तो मैं  इस महीने से आपका किराया लूंगी, मगर मैं पिछले महीनो का किराया नहीं लुंगी।" उसने उन लोको जो तब मदद की जब उनको सबसे ज्यादा जरुरत थी, और वो भी बिना किसी return की अपेक्षा किये। आज भी नेहा उनके घर में रहती है मगर शोभना ने कभी गलती से भी उसको जताया नहीं। उसने नेहा को निस्वार्थ भाव से मदद की थी। बिना किसी अपेक्षा के।  

हम इसे कई शोभना जैसे लोगो को देखते है जो निःस्वार्थ दुसरो की मदद की लिए तत्पर रहते है। उनकी यही quality उनको सबसे unique बनाती है और यादगार भी ।

How to apply in life ?

 जब हम किसी को मदद करते है तो उनसे बदले में कुछ पाने की इच्छा भी रखते है। बिना return हम किसी कोभी मदद नहीं  करते। हम यहाँ पे ये काम कर सकते है की हम बिना उम्मीद किये चीजों को प्यार से करना सीखे। 

हम हमेशा दिल से लोगो  की मदद करने के लिए तत्पर रहे। देने की ख़ुशी महसूस करे। अगर उसके बदले में कुछ मिलता है  तो ठीक है, अगर नहीं मिलता तो किसी के काम आने पर भगवान  को धन्यवाद करे। 


2. Never trying to impress others. (दुसरो को प्रभावित करने की कोशिश ना करे )

एक और शोभना जैसे लोग है। जो सबकुछ कर के भी कभी जताते नहीं। वही दूसरे और ऐसे भी लोग है, जो केवल अपना ही गुण गान गाते रहते है। जब भी उनको मिलो  अपनी ही  उपलब्धिया गिनाते रहते है। (चाहे उन्हों ने कुछ न किया हो। )उनको देख के लगता है की ऐसे लोग दुसरो को impress कर ने में ही अपने जीवन की सार्थकता समझते है। वो ये भी नहीं देखते की दुसरो को उनमे interest है की नहीं। वे अपने ही बखान खुद ही करते है। और उनकी खासियत ये होती है की वो कभी भी सामने वाले के hobby या जीवन के  बारे में पूछते ही नहीं। उनको इंट्रेस्ट ही नहीं होता दुसरो के बारे में जानने का। अगर आप अपने बारे में बताओ भी तबभी वे आपको फुल ignore करेंगे। और वे अपने गुणगान गाने में ही मस्त रहेंगे। अपने आपको इस दुनिया की महान व्यक्ति साबित कर ने की भरपूर कोशिश करेंगे। हकीकत में ऐसे लोग अंदर insecure रहते है। उनमे self confidence की कमी होती है।  क्योकि ऐसे लोग ने अपनी लाइफ में कुछ भी नहीं किया होता। ऐसे लोगो की कंपनी किसी को भी पसंद नहीं है। 

मैं जब भी किसी को इस तरह से impress करने की कोशिश करती हु तो मुझे अंदर से insecurity fill  होती है। मैं चाहकर भी  अपना जूठा बखान नहीं कर सकती। मुझे ये डर लगा रहता है की कही मेरा जूठ  पकड़ा  ना जाए। हमें भी उसीकी company पसंद होती है, जो व्यक्ति स्वयं के बारेमे  बिना सच्चाई को बढ़ा चढ़ा  के स्वाभाविक रूप से बात करता हो। और उसको आपके बारे में जानने का अधिक interested हो। ऐसे लोगो के पास बैठना ज्यादा सुखद होता है। 

unforgettable people अपने बारे में तभी बात करते है जब उसको पूछा जाए। और वो भी उतना ही बताएंगे जितना आप उसको पूछोगे। वे दुसरोको प्रभवित करनेके की आवश्यकता ही महसूस नहीं करते। जब भी आप उनसे बात करेंगे वे तनाव मुक्त और स्वाभाविक रहेंगे। 

 How to apply in life. 

हमें अपने अंदर जाकना होगा।  हम  दुसरो  impress करने में लगे है तो हमें अपने आप और अपने self confidence पर काम  करने की आवश्य्कता है।  जब आप अपने आपको जानते हो अपना मूल्य समझते हो तो दुसरो के सामने उसको साबित करने का या दुसरो के certificate ही आपको कोई आवश्यकता नहीं है। अपने आपको improve करो। 

3. Control your emotions (अपनी भावना पर नियंत्रण करे)

मैंने कभी भी शोभना को किसी की बुराई करते नहीं सुना। 'शोभना' जैसे लोग कभी भी अपने emotion को सब के सामने व्यक्त नहीं करते। अगर किसी ने उनको जानबूझकर दुःख भी पहुंचाया हो तब भी वो react करने से पहले सोचेंगे। ऐसा नहीं है की वो किसी से डरते है मगर उनको किसी से कोई फर्क ही नहीं पड़ता।  
अपनी भावनाओ पर नियंत्रण रखना सबसे आकर्षक गुणों में से एक है।

 हलाकि, ये बहुत ही मुश्किल काम है। खास कर के तब के तब जब आपके आस पास ऐसे लोग हो जो आप को  हमेशा निचा देखने में ही व्यस्त हो। मगर फिर भी हमारा व्यक्तित्व उस पर निर्भर करता है के हम कैसे react करते है, न की उस पर की लोग हम से कैसे treat करते है। हम उसको नियंत्रण रख ने के लिए खुद को प्रशिक्षित कर सकते है। 

 How to apply in life 

अगर कोई आपको hurt  करता है तो, तुरंत react मत करे। लम्बी सांस ले और अपने आपको cool करे। कुछ समय दीजिये। एक पैन और पेपर लीजिये और आपके दिमाग में जो भी रहा हो उसको लिखिए। उससे आपको उन नकारात्मक भावना  को दूर करने मे मदद मिलेगी। अपने आपको समय दीजिए,  इससे आपको अपनी भावना को control करने में मदद मिलेगी। 



4. Laughing at yourself. (ख़ुद पर हसना )

हमने कई बार देखा है की जो लोग अपने आप को बहुत  seriously लेते है वो हमेशा तनाव में होते है। वो हमेशा सब के साथ रह कर भी अकेले होते है। ऐसे लोगो के साथ रहना किसी भी व्यक्ति के लिए तनावपूर्ण बात है। उनके पास सबकुछ होते  हुए भी वह उसको एन्जॉय नहीं कर पाते। वे हमेशा 'लोग क्या कहेंगे ?' के डर के साथ ही जीते है। उनके आस-पास रहते लोग हमेशा टेंशन में ही रहते है की कही कुछ हम उनको बोल न दे। ऐसे लोगो के साथ रहना किसी सजा से कम नहीं। वो न  खुद अपना जीवन खुल कर जी सकते है और न ही उनके साथ रहते लोग।
खुद पे हसना सिख लो, जिंदगी आसान हो जाएगी। 

 अपने ऊपर हसना एक आर्ट है। जो हर किसी के बस की नहीं होती। जो अपने आप पे है सकते है वो किसी भी मुश्किलों का सामना करने में सक्षम होते है। वो अपने लाइफ फुल एन्जॉय करते है। वो खुद भी खुल के जीते है और उनके आसपास के लोगो भी। ऐसे लोगो के साथ टाइम spend करना सबको अच्छा ; लगता है। 'मार्क ट्विन्स ने भी लिखा है की ,

 The human race has only one really effective weapon and that is laughter  

इसीलिए खुल के हसिये बिना किसिस डर के। क्योकि वही एक चीज़ है जो आपको सफलता के दरवाजे तक पहुंचने में मदद करती है। 

how to apply in life 

बिना डर के खुल के हसना सीखे। अपनी कमियों पर हसना सीखिए। छोटी या बड़ी किसी भी बात पे परेशान  होने की बजाय उसपे हसे। अपने आस पास ऐसे दोस्तों और लोगो को रखे जो 'लोग क्या कहेंगे?' के रोग से पीड़ित न हो। 
ये जीवन है और जीवन एक संघर्ष जरूर है पर जंग नहीं। 

5.Know your boundaries ( अपनी सीमाए जानिए )

  आप जैसे हो, जो भी हो उसको स्वीकार कर लीजिये और अपनी सीमाए जानिए।अपनी क्षमता पर विश्वास कीजिये। अपने आप पर कॉन्फिडेंस रखे। कई लोग है जो किसी के साथ के बिना घर से बहार तक नहीं जाते। शोभना सिंपल जरूर थी मगर वो आत्मविश्वास से भर पुर थी। वो अपनी बॉउंड्री जानती थी। अपनी क्षमता पे उसको पूरा विश्वास था। वो बिना किसी की परवा किये वो ही करती जो उसको ठीक लगता,  मगर वो दुसरो की भावना का भी ख्याल रखती थी। वो अपने मन को मार के कभी नहीं जीती। याद रखिये आप तभी किसी को खुश कर सकते है जब आप खुश रह सके। किसी के लिए अपने passion को मत मारिए। आपका passion ही आपको जिन्दा होने का अहसास दिलाता है।  

How to apply in life ?

आप अपने पैशन को अपने जूनून को कभी भी मारे नहीं। मगर  साथ में दुसरो की भावना का भी ख्याल करते हुए अपनी क्षमता को पहचान कर आगे बढे। 

6. Beaning passionate 

मैंने अक्सर देखा है की जो लोग passionate होते है उनको हम जल्दी  नहीं भूल पाते। वो हमेशा अपने passion के लिए उत्साहित रहते है। उनका उत्साह देख के हम भी उत्साहित हो उठतें है। वे शोख,करियर या किसी भी चीज़ के लिए जूनून से अपने सपनो को पीछा करते है वे देखने लायक होता है। चाहे जितनी भी चुनोतिया आजाये वे पीछे नहीं हटते। उनका जीवन रोमांच से  भरा होता है। जिसको भूल पाना मुश्किल होता है। इसे लोगो को हम चाहे एकाद बार ही हम अपने जीवन में देखे  हम उनको भूल नहीं पाते। 

How to apply in life ?

 सच कहु तो आप किसीको  forcefully passionate नहीं कर सकते। ये चीज़े अंदर से आती है। उसके लिए आपको अपने passion को पहचानना होगा। जिसको करने से आपको आनंद आये। ये नहीं की किसीकी  देखादेखी में आप किसी भी चीज़ को स्टार्ट करदो। अगर आप  passion को नहीं पहचान पाए हो तो अलग अलग चीज़ो को try करे और देखे की किसको करने में आपको ज्यादा आनंद मिलता है। वो कुछ भी हो सकता है, cooking , dancing, या कुछभी। पहचान ने के बाद उसको अपने जीवन का लक्ष बना लो। आपको अपने जीवन पथ मिल जायेगा और आप उसके प्यार में पड़ जायेंगे। 

7. Bening genuinely happy for other peoples success (दूसरो सफलता पर  दिल से खुश रहो )  

हमने हमेषा देखा  कुछ लोग (most people ) दुसरो की सफलता  खुश नहीं होते। है वे खुश होने  दिखावा जरूर  खुश नहीं होते। इर्षा किसी भी रिश्तो के लिए खतरनाक है। इर्षा ऐसे लोग करते है जो अपने आपको असुरक्षित  महसूस करते है। उन्हें डर ] लगता है की 'वो' अगर सफल हो गया तो मेरी कोई value नहीं रहेगी।ईर्षावान लोग हमेशा अकेले ही पाए जाते है। उनकी इर्षा उनको दूसरो के साथ जुड़ने ही नहीं देते। 

मैंने देखा था की जब 'शोभना' की फ्रैंड के हस्बैंड को नौकरी मिली थी तब शोभना की खुशी का कोई ठिकाना नहीं था। मैंने हमेशा उसको दुसरो की उब्लब्धियो के बारे में बात करते वक्त उत्साहित ही देखा है। कभी किसी की भी उब्लब्धियो पे question mark करते नहीं देखा। ऐसे लोग ही हमारे ऊपर एक अनूठी छाप छोड़ जाते है, जो हम कभी नहीं भूलते।  

how to apply in life ?

दुसरो से अपनी तुलना कर ने में अपन समय बर्बाद न करो। वो आपसे ज्यादा सफल है क्योकि उन्होंने अपना समय दुसरो की निंदा कर ने में व्यर्थ नहीं किया, बल्कि अपने सपनो के पीछे भागे है। दूसरो कि उपलब्धियों पर जश्न मनाना सीखे। दुसरो की सफलता पर डरने की बजाय उसको एन्जॉय करे, और उसमे से सीखे। 

8 Being kind to other. 

सोचिये, अगर आपके घर पे कोई खाना खाने आये आर वो आपके बारे में, आपके घर के बारे में, खाने के बारे में कोई कमिया निकलना शरू कर दे तो आपको कैसा लगेगा? क्या आप उसको कभी फिर बुलाएंगे? क्या आप उसको कही याद करना पसंद करेंगे?

दुसरो के प्रति ख़राब व्यवहार करना, हमें ये देखता है की हमारे पास कम सहनुभूति और आत्मसमान है। क्योकि, उच्च आत्मसम्मान वाले लोग कभी दुसरो की कमिया नहीं देखते। बल्कि उनकी मजबूरिया देखते है। दुसरो को वोही सम्मान दे सकता है जिसके अपने पास हो। इसलिए हमें दुसरो के बारे में कुछ भी खरब बोलने से या जताने से पहले १०० बार सोच लेना चाहिए। 

हमें उसीके साथ अच्छा लगता जो हमारे साथ अच्छे से व्यवहार करते है। जो सब के सामने आप की बुराइया न करे, आपका सम्मान करे। जो आपकी तरक्की पे जलने के बजाय उसको सच्चे मन सेcelebrate करे।
ऐसे लोगो की ये खासियत होती है की वो किसी को भी गलत तरीके से ट्रीट नहीं करेंगे, और न ही वो लोगो के बारे में कुछ भी गलत बोलेंगे। 

How to apply in life ?

दुसरो के साथ ऐसा ही व्यवहार करे जैसा आप अपने लिए दुसरो से expect करते है। किसी की भी उनके सामने या पीठ के पीछे बुराई ना करे। लोग उसी को याद करते है जो दुसरो के प्रति दयालुता दिखाए। चाहे कोई भी हो उसको अपना आत्मसम्मान सबको प्यारा होता है। उसपे प्रहार न करे। 

9. Being self confidence and humble (दयालु और आत्मविश्वासी बने )

मुझे वो लोग सबसे ज्यादा पसंद है जो आत्मविश्वास से भरपूर होने के साथ दयालु भी होते है। ऐसे लोग किसीभी situation में stable रहते है।  वे कभी विचलित नहीं होते, क्योकि वो जो भी करते है वे वो जानते है। उसको उसके ऊपर विश्वास होता है।  मगर ऐसे लोग तभी आपको याद  रहेंगे उसके साथ वो humble भी हो। कठोर इंसान किसी को भी नहीं पसंद चाहे वो कितना भी कंफीडेंट या सफल क्यों न हो। 

How to apply in life?

अपनी खामियों से प्यार करना शिखिये।  अपनी खामियों से प्यार कर के ही हम उसको दूर करके सफल हो सकते है। जब हम अपनी खामियों को इग्नोर करते है तो हम उसको कभी दूर नहीं कर सकते। और उसका असर हमारे confidence पर पड़ता है। हम दुसरो से नज़रे चुराने लगते है। और धीरे धीरे हमें अकेलापन घेर लेता है। अपने आप को ये याद दिलाते रहना है की आप सुन्दर अद्वितीय है। उससे confidance में वृद्धि होंगी। 

10 . Taking care of your body. (अपने शरीर का ध्यान रखना)

 कहते है की अगर आपका स्वास्थ अच्छा है तब ही आपको अच्छा लगेगा नहीं तो स्वर्ग भी नर्क जैसा लगेग। हममे से कई लोग ये ही गलती करते है की हम दुसरो का ध्यान  रखने में अपना स्वास्थ की चिंता नहीं करते। और जब हमें  स्वास्थ की जरुरत होती है तो वो हमारे साथ नहीं होता। 
if you not care of your body your body not care of you
                                                                    -BUBGREAT

जो लोग unforgettable   अपने हेल्थ  ख्याल रखते है। क्योकि वो अपने आप से प्यार करते है। अपने आप से प्यार करो। अपने शरीर से प्यार करना सीखो। जैसे हम अपने प्रियजन का ख्याल रखते है  वैसे ही अपने शरीर का भी ख्याल रखो। । क्योकि जो व्यवहार आप अपने शरीर के साथ करते है वो ही आपका शरीर आपके साथ करेगा।  

How to apply in life?

आपका शरीर और mind आपके सबसे मूलयवान सम्पति है। याद रखे अपने आपको प्यार करना  ख्याल रखना वो ईंधन है जिसकी हमें रोज़ ज़रूरत है। इसलिए अपने शरीर का महत्त्व समजो कुछ भी गलत खानेपीने से लेके गलत सोचने से पहले ये सोच लीजियेगा की ये हमारे लिए कितना नुकसान देह है। 


                         

बस यही कुछ सिम्प्ल tips है जिसको अपना कर आप अपने साथ और दुसरो के साथ  एक अच्छा रिस्ता बना सकते है। 'शोभना'  जैसे लोग कोई खूबसूरत या पैसेवाले नहीं है मगर इन गुणों से भरपूरहै, जिससे वे दूसरोंसे  अलग और unforgettable  है। 










टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Yeh Rishta Kya Kehlata Hai / रिश्ता किसे कहते हैं ?

  रिश्ता किसे कहते हैं ?/rishta kise kahate hain. rishte ehsas ke hote hain दोस्तों, आज कल 'ये रिश्ता क्या कहलाता है' फेम दिव्या भटनागर बहुत चर्चा में है। उसकी मौत तो covid 19 के कारन हुई है।  लेकिन उसके परिवार और friends के द्वारा उसके पति पर उनकी मौत का इल्जाम लगाया जा रहा है। ( हम यहाँ किसी पर भी आरोप नहीं लगाते, ये एक जांच का विषय है। )  ऐसा ही कुछ सुंशांत सिंह राजपूत के मौत के वक्त भी हुआ था। उनके मृत्यु के बाद उनके परिवार और friends ने भी ऐसे ही किसी पर आरोप लगाया था। उनकी मौत का जिम्मेदार माना था।  इनकी स्टोरी सच है या क्या जूठ ये हम नहीं जानते, न ही हम उसके बारे में कोई discussion करेंगे।  मगर ये सुनने के बाद एक विचार मेरे मन में ये सवाल उठा की ये हो-हल्ला उनकी मौत के बाद ही क्यू ? उनसे पहले क्यों नहीं? अब ऐसा तो नहीं हो सकता की उनके रिश्तेदारों को इस चीज़ के बारे में बिलकुल पता ही न हो?  ये बात केवल दिव्या भटनागर या सुशांत सिंह राजपूत की ही नहीं है। ये दोनों की story तो इसलिए चर्चा में है, क्योकि ये दोनों काफ़ी successful हस्तिया थी।  मगर हमने अपने आसपास और समाज में भी ऐ

5 Tips Life me Khush Kaise Rahe In Hindi

   life me khush rehne ke tarike/ happy life tips in hindi दोस्तों, जब से ये दुनिया बनी है तब से आदमी की एक ही इच्छा रही है के वे अपने जीवन में हमेश खुश रहे। चाहे वो पाषाण युग हो या आजका 21st century हो। हमारा हर अविष्कार इसी सोच से जन्मा है। चमच्च से ले कर रॉकेट तक हमने इसीलिए बनाये है ताकि हम अपने जीवन में खुश रहे।  आज 21st century में तो हमारे जीवन को आसान और खुश रखने के लिए  gadgets की तो मानो बाढ़ सी आ गयी है। चाहे घर का काम हो या ऑफिस का चुटकि बजा कर हो जाता है। घर बैठे मिलो दूर अपने अपनों से न केवल बात कर सकते है मगर उसको देख भी सकते है।  आज internet ने अपना साम्राज्य इस कदर फैलाया है की, दुनिया के किसी भी कोने में क्या हो रहा है वो आप दुनिया के किसी भी कोने में बेठ कर देख सकते है। आज से पहले इतनी सुविधा कभी पहले नहीं थी। हर बात में आज का युग advance है।  शायद ही ऐसा कोई मोर्चा हो जहा पर हम ने तरक्की न करी हो। पर अब सवाल ये उठता है की इतनी तरक्की करने के बाद क्या हमने वो हासिल किया है जिसके लिए हमने इतनी तरक्की करी है? आज हमारे पास सबसे बढ़िया गाड़ी है, घर है, कपडे है, घडी है, जुते

kya bacho ko mobile dena chahiye?

  क्या बच्चो के लिए खतरनाक है मोबाइल? दोस्तों, क्या बच्चो को मोबाइल देना चाहिए? ये सवाल आज के युग का एक बहोत ही बड़ा सवाल है। हर माँ बाप को ये सवाल सताता है की क्या हमें अपने बच्चो को मोबाइल देना चाहिए या नहीं ? इस पर एक लम्बी चौड़ी कभी न ख़तम होने वाली बहेस होती है और होती रहेगी। लेकिन यहाँ कुछ point पर ध्यान देना भी बहुत ही जरुरी है।  सबसे बड़ा सवाल ये है की बच्चो को मोबाइल की क्या जरुरत है? मोबाइल का उपयोग हम आमतौर पर किसी से बाते करने में, अपने ऑफिस वर्क के लिए या लोकशन सर्च के लिए होता है। ये सारे ज़रूरी काम है जो बिना मोबाइल के नहीं हो सकता राइट? तो अब सवाल ये उठता है की बच्चो को मोबाइल क्यों जरुरी है? बच्चो को नहीं किसी से जरुरी बात करनी होती है, और न ही ऐसा कोई काम जो बिना मोबाइल के पूरा न होता हो। बाहर वो हमारे साथ जाता है। पूरा दिन वो स्कूल या collage में अपने friends के साथ  होता है, और यदि  कुछ काम हो तो वो हमारा फ़ोन use कर सकता है। मुझे नहीं लगता की ऐसा कोई एक कारन हो,  जिसकी बजह से हमें अपने बच्चो को उनका खुद का मोबाइल खरीदकर देना पड़े।   दोस्तों, हम अपने बच्चो को मोबाइल क्यों