सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Dar Ke Aage Jeet Hai / Fight Your Fear and Win In Hindi

अपने डर पर विजय पाओ। 

success tips in hindi,It is a symbol of fear in real life,Mountain Dew,  Face the anxiety with strength to overcome Fear, Dar Ke Aage Jeet Hai /Fight Your Fear and Win In Hindi


"डर के आगे जित है।" दोस्तो, ये वाकय हम रोज दसियो बार सुनते है, देखते है। जी, हाँ दोस्तों ये mountain due की ऐड. का है। अभी आप सोचते होंगे की मैंने ये sentence को क्यों चुना?  जवाब है की इसी एक sentence में success का पूरा formula है। 

दोस्तों,  एक आम इंसान और एक success  इंसान में फर्क क्या होता है? talent, hard  work, big dreamer, focus ये सारे गुण तो है ही, मगर एक और गुण है जिसके बगैर कोई भी जी हाँ, कोई भी सफल नहीं हो सकता और वो है, उन्होंने अपनी डर पर जित पाना। 

दोस्तों, मेरा मानना है की हम सब के जीवन में एक ऐसा समय  हमेंशा आता है जब हामरा सामना  हमारे डर से जरूर होता है। इस समय  अगर हम ने अपने डर का डट कर सामना कर विजय पायी तो हमारी पूरी लाइफ चेंज हो सकती है 

 हर इंसान का अपना एक डर  होता है। जिस ने वो डर पार कर लिया सफलता उसके कदम चूमती है। मगर वो हर कोई नहीं पार कर सकता और इसीलिए हर कोई सफल नहीं हो सकता।         

क्या कभी ये सोचा है की यदि महेंद्र सिंह धोनी ने ये सोच कर अपनी सरकारी नौकरी नहीं छोड़ी होती के यदि में successful cricketer नहीं बन पाया तो? क्या उसकी उस सरकारी नौकरी में वो इज़्ज़त और शोहरत होती जो आज है? यदि धीरूभाई अम्बानी ने ये सोच कर अपनी पेट्रोल पंप पर जॉब नहीं छोड़ी होती की अगर मैं सफल न रहा तो मेरा परिवार क्या खायेगा? तो क्या आज रिलायंस होता?

हमें ये नहीं भूलना चाहिए की यदि महेंद्रसिंह धोने एक सफल cricketer ना बन पाते तो आज वो शायद बेरोजगार होते या तो सामन्य सी कोई job  होती जिससे की उनका गुजरा भी ना हो पाता। इसी तरह धीरूभाई अम्बानी यदि सफल न होते तो शायद आज उनके परिवार को दो रोटी भी मुश्किल से मिलती। 

ये बात वो दोनों जानते थे की वो जो risk ले रहे है उससे वे उनकी ज़िंदगी में सफ़ल भी हो सकते थे और निष्फल भी। उन दोनों को भी निष्फलता का डर सता रहा होगा। पर वो आज इतने सफल इसलिए है क्योकि उन्होंने उस डर पर विजय हासिल की थी। 

अमिताभ बच्चनजी को हमने अक़्सर kbc में ये कहते हुआ सुना है की, बाबूजी ये कहा करते थे की,

यदि हमारा चाहा जीवन में हो तो अच्छा, और यदि न हो तो और भी अच्छा क्योकि वो भगवान का चाहा होता है। 

इसीलिए अमिताभ बच्चनजी अपने जीवन में आयी हर  कठिन परिस्थिति मे बिना डरे आगे बढे। हर मिश्किलो का डट कर सामना किया, और विजयी बने। 

खोने से मत डरो। 

दोस्तों, हमें ये नहीं भूलना चाहिए की इस संसार का नियम है कुछ खोकर ही हम कुछ पा सकते हैं। हम हमेशा कुछ भी खोने से डरते है। हम कुछ भी खोना नहीं चाहते। हम हमेशा यही चाहते है की हम केवल हासिल करे बिना कुछ खोये। हमें लगता है की कुछ भी 'खोना' हमेशां गलत ही होता है। ये हमारी सोच गलत है। 

कई बार भगवान हमसे कुछ इसलिए छिन लेता है क्योकि वो हमें कुछ अच्छा देना चाहता है। अब जिसने इसको positive way में लिया वो  सफल होता है। और जिस ने उसको negative way में लिया वो निष्फल रह जाते है। 

यदि colonel sanders की जॉब छूट नहीं जाती, तो हमें  KFC  कैसे मिलती? यदि  STIVE JOBS से अपनी एप्पल की जॉब नहीं छूटती तो आज की लेटेस्ट apple technology हमें कैसे मिलती? यदि अमिताभ बच्चन को रेडिओ में जॉब मिल जाती तो आज के सदी के महनायक को शायद ही  कोई जानता। ऐसे अनगिनत नाम है जिन्होंने पहले कुछ खोया हो और बाद में उनको बहुत कुछ मिला था। 

उनमे और हम में बस इतना ही फर्क है की उनके कुछ छूटने से वो बिन डरे, बिना मायूस या frustrated  होये आगे बढे, और भी ज्यादा महेनत की। अपनी कमियों पर काम किया। अपने आप पर विश्वास रखा।इसीलिए आज वो सफलता के शिखर पर  है।  

जब तक गिलास खाली नहीं होगा तब तक हम दूसरा पानी भरेंगे कैसे? वैसे ही जब तक हमारे जीवन में से कुछ जायेगा नहीं, तब तक और कुछ आएगा कैसे? इसलिए जब हमसे जीवन में कुछ छूटे तब मायूस होने की बजाय ये सोचना चहिये की ये छूटा है तो कुछ मिलेगा भी, और आगे प्रयास करते रहना चाहिए।  

डर से मत भागो। 

हम सब  डर से बहुत ही दूर भागते है। हम गलती से भी ऐसा कोई काम नहीं करना चाहते जिसका हम को डर लगता हो, बस यहॉ पर हम सब भूल कर बैठते है। अपने डर से भागने की बजाय हमें अपने डर का सामना करना पड़ेगा। क्योकि कई बार हमारा डर केवल एक वहम होता है। जो हमें लगता है की 'ऐसा' करने से 'ऐसा' होगा वैसा होता ही नहीं। 

हमें हमेशा डर का डट कर सामना करना चाहिए। क्योकि डर का सामना कर के ही डर को भगाया जा सकता हैं, इसलिए डर पर विजय पाने का एक ही रास्ता है अपने डर का सामना करो। अपने डर को डर के रूप में नहीं बल्कि एक challenge के रूप  में हमें लेना चाहिए। तभी हम अपने डर से मुक्त हो सकते है। एक सफल जीवन के लिए अपने डर से मुक्त होना बहुत ही जरुरी है। 

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

Please do not enter any spam link in the comment box.

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Yeh Rishta Kya Kehlata Hai / रिश्ता किसे कहते हैं ?

  रिश्ता किसे कहते हैं ?/rishta kise kahate hain. rishte ehsas ke hote hain दोस्तों, आज कल 'ये रिश्ता क्या कहलाता है' फेम दिव्या भटनागर बहुत चर्चा में है। उसकी मौत तो covid 19 के कारन हुई है।  लेकिन उसके परिवार और friends के द्वारा उसके पति पर उनकी मौत का इल्जाम लगाया जा रहा है। ( हम यहाँ किसी पर भी आरोप नहीं लगाते, ये एक जांच का विषय है। )  ऐसा ही कुछ सुंशांत सिंह राजपूत के मौत के वक्त भी हुआ था। उनके मृत्यु के बाद उनके परिवार और friends ने भी ऐसे ही किसी पर आरोप लगाया था। उनकी मौत का जिम्मेदार माना था।  इनकी स्टोरी सच है या क्या जूठ ये हम नहीं जानते, न ही हम उसके बारे में कोई discussion करेंगे।  मगर ये सुनने के बाद एक विचार मेरे मन में ये सवाल उठा की ये हो-हल्ला उनकी मौत के बाद ही क्यू ? उनसे पहले क्यों नहीं? अब ऐसा तो नहीं हो सकता की उनके रिश्तेदारों को इस चीज़ के बारे में बिलकुल पता ही न हो?  ये बात केवल दिव्या भटनागर या सुशांत सिंह राजपूत की ही नहीं है। ये दोनों की story तो इसलिए चर्चा में है, क्योकि ये दोनों काफ़ी successful हस्तिया थी।  मगर हमने अपने आसपास और समाज में भी ऐ

5 Tips Life me Khush Kaise Rahe In Hindi

   life me khush rehne ke tarike/ happy life tips in hindi दोस्तों, जब से ये दुनिया बनी है तब से आदमी की एक ही इच्छा रही है के वे अपने जीवन में हमेश खुश रहे। चाहे वो पाषाण युग हो या आजका 21st century हो। हमारा हर अविष्कार इसी सोच से जन्मा है। चमच्च से ले कर रॉकेट तक हमने इसीलिए बनाये है ताकि हम अपने जीवन में खुश रहे।  आज 21st century में तो हमारे जीवन को आसान और खुश रखने के लिए  gadgets की तो मानो बाढ़ सी आ गयी है। चाहे घर का काम हो या ऑफिस का चुटकि बजा कर हो जाता है। घर बैठे मिलो दूर अपने अपनों से न केवल बात कर सकते है मगर उसको देख भी सकते है।  आज internet ने अपना साम्राज्य इस कदर फैलाया है की, दुनिया के किसी भी कोने में क्या हो रहा है वो आप दुनिया के किसी भी कोने में बेठ कर देख सकते है। आज से पहले इतनी सुविधा कभी पहले नहीं थी। हर बात में आज का युग advance है।  शायद ही ऐसा कोई मोर्चा हो जहा पर हम ने तरक्की न करी हो। पर अब सवाल ये उठता है की इतनी तरक्की करने के बाद क्या हमने वो हासिल किया है जिसके लिए हमने इतनी तरक्की करी है? आज हमारे पास सबसे बढ़िया गाड़ी है, घर है, कपडे है, घडी है, जुते

kya bacho ko mobile dena chahiye?

  क्या बच्चो के लिए खतरनाक है मोबाइल? दोस्तों, क्या बच्चो को मोबाइल देना चाहिए? ये सवाल आज के युग का एक बहोत ही बड़ा सवाल है। हर माँ बाप को ये सवाल सताता है की क्या हमें अपने बच्चो को मोबाइल देना चाहिए या नहीं ? इस पर एक लम्बी चौड़ी कभी न ख़तम होने वाली बहेस होती है और होती रहेगी। लेकिन यहाँ कुछ point पर ध्यान देना भी बहुत ही जरुरी है।  सबसे बड़ा सवाल ये है की बच्चो को मोबाइल की क्या जरुरत है? मोबाइल का उपयोग हम आमतौर पर किसी से बाते करने में, अपने ऑफिस वर्क के लिए या लोकशन सर्च के लिए होता है। ये सारे ज़रूरी काम है जो बिना मोबाइल के नहीं हो सकता राइट? तो अब सवाल ये उठता है की बच्चो को मोबाइल क्यों जरुरी है? बच्चो को नहीं किसी से जरुरी बात करनी होती है, और न ही ऐसा कोई काम जो बिना मोबाइल के पूरा न होता हो। बाहर वो हमारे साथ जाता है। पूरा दिन वो स्कूल या collage में अपने friends के साथ  होता है, और यदि  कुछ काम हो तो वो हमारा फ़ोन use कर सकता है। मुझे नहीं लगता की ऐसा कोई एक कारन हो,  जिसकी बजह से हमें अपने बच्चो को उनका खुद का मोबाइल खरीदकर देना पड़े।   दोस्तों, हम अपने बच्चो को मोबाइल क्यों