सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

3 life lessons learned from Covid-19 In Hindi/corona kal

 what we can learn from coronavirus

corona kal ne hame jivan me bhut si chizo ka mahtv samjaya hai. jisko ki ham bhul chuke the.sal 2020 ham sab ke liye bahut sikhaya hai .
things we have learned from covid-19


दोस्तों, २०२० ख़तम हो चुका और नया साल 2021 आ गया है। आप सब को सबसे पहले HAPPY NEW YEAR। हम सब ये आशा करते है की हमारा नया साल सच में हैप्पी हो। 2020 से अलग हो। 

दोस्तों, लगभग हम सभी लोग २०२० से खुश नहीं है। हम सभी ये मानते है की 2020 एक साल हमारा वेस्ट गया। कई ऐसे कटाक्ष जोक्स प्रचलित भी हुए की भगवान को इस एक साल को delete करना चाहिए। इसमें वायरस आ गया है, वगैरा। 

कई लोग का हाल सच में बहुत ही बुरा है इस कोरोना काल में। कई लोग की जॉब छूट गई। जिन्हो ने अपना जस्ट business start किया था, उनको बंध करने की नौबत आयी। उनका न केवल पैसा मगर अपने सारे सपने टूट गए। 

कई लोगो का सालो से बना बनाय business को बंध कर ने तक की नौबत आयी। मजदूर और गरीब लोगो की हालत तो और भी दयनीय हो गई। उनको तो खाने तक के लाले पड़ गए।  कई लोग रातो रात road परआ गए।

ये हालत एक city, एक राज्य या एक देश की नहीं थी। सारी दूनिया की यही हालत थी। दुनिया मानो थम सी गई। क्या हुआ किसी को अब तक समज नहीं आता।  

किसी ने नहीं सोचा था की एक ऐसा virus आएगा जिस से एक साथ पूरी दुनिया को प्रभावित करेगा। अमेरिका, फ़्रांस, UK  जैसी महा सत्ता को  घुटनों के बल ले कर आएगा। 

 यह साल सब के लिए ख़राब ही गया। ये एक द्रष्टिकोण हैं, यदि हम दूसरे द्रष्टिकोण से देखेंगे तो इस साल ने हम को बहुत अनमोल चीज़े दी है। बहुत सी ऐसी चीज़े जो हम सालो से या  पीढ़ियों से नहीं सिख पाए ये एक साल ने हमें सिखाया है। 

जी हां दोस्तों, मेरी इस बात से यदि आप सहमत नहीं है तो उसे पढ़िए, मैं दावे के साथ ये कहती हु की, इसे पढ़ने के बाद आप मेरे इस बात से जरूर सहमत हो जायेंगे। 

क्या सीख देता है कोरोना?

दोस्तों, कुदरत का एक नियम है की, हर अच्छी  बुरी चीज़ जुडी हुई होती है, इसी तरह हर एक बुरी चीज़ के साथ एक अच्छी चीज़ जुडी है। 

दोस्तों, कोरोना काल ने हमें लाख बुराई दिखती है। वो हमें बहुत कुछ सीखा कर गया है। ये बात हम जुठला नहीं सकते। 

1. सेविंग का महत्व

naye sal 2021 me hamne corona se sikha hai jivan me bachat ka mahatva
aaj ki bachat kal ka sukh


 दोस्तों, जैसे की हम जानते है इंडिया के सीवा और किसि भी देश में सेविग नहीं होती थी। यूरोप देशो में तो Monday to Friday earn and Saturday to Sunday  spend. ये ही उनका culture है। पूरा हफ्ता वो इस लिए कमाते  है ताकि Saturday और Sunday को वो 'एन्जॉय'  कर सके। 

भारत में ये नहीं था। हमें बचपन से ही saving करनी सिखाई जाती थी। हमारे दादा, पर-दादा सब saving करते थे हमारे लिए। पर  कुछ वर्षो से हमारी मानसिकता में भी बदलाव आना चालू हो गया था। 

भारत में भी वही western culture दिख रहा था। 'कल किसने देखा है आज जी लो' की मानसिकता हमारे यहाँ भी घर कर गई थी। एक  दूसरे की देखा देखि में जिनके पास कुछ न हो वो भी लोन ले कर या 'कुछ भी कर' के 'एन्जॉय' कर रहे थे। 

हमें न ही अपने भविष्य की चिंता थी और न ही अपने बच्चो के भविष्य की। हम अपने में ही मशगूल थे। तभी साल 2020 आया। हम सब ने बहुत सपने संजोये रखे थे। पर साल शुरू होती ही कोरोना के पंजे ने पुरे विश्व को जकड़ लिया।  

सब को यही लगा की कुछ ही दिनों में ये स्थिति normal हो जाएगी। दिन महीने बने और महीने साल। पर अभी भी वो ही स्थिति बनी हुई है। सब से दयनीय स्थिति उनकी है जिन्होंने 'एन्जॉय' के नाम पर कुछ भी सेविंग नहीं की थी। उनसे भी ज्यादा वो ख़राब परिस्थिति में वो लोग है जिन्होंने देखादेखी में लोन ले कर या instalment पर चीज़े खरीदी हुई थी। 

आज लगभग हर एक व्यक्ति मान रहा है की हमें सेविंग करनी चाहिए। न केवल इंडिया में मगर western countries में भी जहा saving की system ही नहीं थी, वहा पर भी आज लोग saving करने लगे है।

इतनी बड़ी सिख जो हम भूल गए थे, या जिसको out date समझते थे। और तो और जहा पर ये सिख ही नहीं थी (western countries) वहा पर भी केवल इस एक साल में ही लोग saving का महत्व समज चुके है। वो मान गए है की आज की बचत ही कल का सहारा है। 

क्या बिना कोरोना के ये संभव था?


5 ways to manage stress in life

2 चीज़ो का महत्व 

ज़िंदगी में क्या महत्व है ? chizo ka mahtatv hamne is covid 19 ke dauran sikha .


दोस्तों, एक ज़माना होता था जब लोग छोटी से छोटी चीज़  इस्तमाल करने के बाद उसको संजोकर रख दिया करते थे। ये सोच कर की आगे को काम आएगी। और वही चीज़ आगे भी उनके बच्चे भी use  कर के रखदिया करते थे। हमारे यहाँ चीज़ो को फेकने का concept ही नहीं था। 

धीमे धीमे समय बदला और लोग अपने parents की चीज़ो की जगह अपने लिए नयी चीज़े लाना शुरू की और  उसको ही जीवन परियन्त use करते थे। 

आज तो use and throw का जमाना आ गया है। हमें हर समय नयी चीज़े ही चाहिए। कल की लायी चीज़ भी हम आज उपयोग  करने में शरमाते है। आज तो चपल से ले कर सुई तक की चीज़े use and throw मिलने लगी है। 

दूसरा हमें हर किसी को बाजार में मिलने वाली हर एक चीज़ चाहिए। चाहे वो हमारी काम की हो या न हो। और तो और हमें ये लगता था की हम उन चीज़ो के बिना नहीं रह सकते।  

कोरोना काल में हम सब  को ये पता चल गया है की, हम सब उन चीज़ो के बिना रह सकते है, जो हमें  लगता था की वो हमारे जीवन में बहोत ही महत्व पूर्ण है। हमें जीने के लिए बहूत ही काम की चीज़े ही। उसके बीना हम रह ही नहीं सकते।

आज वो सारी चीज़ो के बिना भी हम बहुत अच्छे से और खुशी से अपना जीवन काट सकते है। 

क्या ये मैसेज बिना कोरोना के हमें मिल सकता था?

3. प्रकृति का महत्व 

prakriti ka mahatva jo ham lag bhag bhul hi gaye the ye bhi hamne corona kaal me sikha.


दोस्तों, हमने पिछले १०० वर्षो में जितनी प्रगति की है उतनी पृथ्वी की उत्पति से लेकर १९०० तक नहीं की थी। सारी बड़ी खोज हमें 20 और 21 वि सदी में ही की है। हमने हर क्षेत्र में क्रांति लायी है। 

जहा पर इंसान को एक गांव से दूसरे गांव जाने पर दिनों लग जाते थे। आज कुछ ही घंटो में सात समंदर पार कर लेते है। जहा चाँद तारे केवल हमारी कल्पना में थे।  आज हम न केवल उनको देख सकते है पर उसको छू भी सकते है। 

पर ये सब किस कीमत पर क्या ये हमने कभी सोचा है? एक research के मुताबिक पिछले १०० वर्षो में जितना प्रकृति का नुकसान हुआ है उतना हजारो सालो में कभी नहीं हुआ। लगभग आधे  से ज्यादा जंगल हमने नष्ट  इन 100 सालो में ही किये है। 

हम सब जानते है की वृक्ष ही है जो हमें वर्षा देता है। हमारी जमीन को उपजाोऊ बनता है। उसको हम ऐसे काट रहे है जैसे वो हमारा दुश्मन हो। 

केवल वृक्ष या जंगल ही नहीं हमने हर एक प्राकृतिक सम्पति चाहे वो oil हो, गैस हो सबका हमने miss use किया है। हमने प्रकृति से केवल लिया ही है दिया कुछ भी नहीं। या ये कहा जाये की use से ज्यादा बरबाद किया है तब भी गलत नहीं होगा। 

(प्रकृति की बर्बादी पर एक विशषे ब्लॉग आगे  लिखूंगी क्योकि वो यहाँ बहुत ही लम्बा हो जायेगा। ) 

इसका नतीजा ये हुआ की प्रकृति का संतुलन अस्त व्यस्त हो गया। गर्मी में ठण्डी और ठण्ड में बारिश आने लगी।  बाढ़, सूखा, earthquake जैसी समस्या हर एक दिन कही न कही हमने सुनी या देखि थी। 

पर हम प्रकृति के इस सन्देश को भी नज़र अंदाज़ करते गए। इसका नतीजा हमने year 2020 में देखा corona के स्वरुप में। पहले प्राकृतिक आपदा किसी एक शहर, एक राज्य या एक देश में होती थी। पर कोरोना ने तो पुरे विश्व को ही अपने सिकंजे  लिया। 

सब कहते है की ये अचानक क्यों हुआ? ये अचानक नहीं हुआ है। प्रकृति ने तो हमें कई बार संकेत दिए थे पर हम ही समज नहीं पाए। 

ये बात कही न कही हम समज भी चुके है।  हम सब पहले के मुकाबले ज्यादा प्रकृति के बारे में न केवल सोचने लगे है, उसकी देख-भाल करनी भी चालू कर दी है हमने। 

दोस्तों, हर साल earth saving day मनाकर। करोडो रूपया खर्च कर के जो हम नहीं सिख पाए, वो हमने कोरोना ने केवल एक साल में सीखा दिया। क्या ये बिना कोरोना के संभव था। 

ऐसी अनेको चीज़े है जो होने corona kal में सीखा। तो 2020 और कोरोना काल को goodbye कहने से पहले हमें उनको thanks कहना तो बनता है। 

हम उम्मीद करते है की हमारा आने वाला न केवल एक साल हमारे लिए अच्छा हो। हर साल अच्छा जाये। इसके लिए हमें साथ में मिलकर काम करना होगा। 

once again happy new year. आइये हम इस नए साल में एक सपथ ले की, हमने जो कोरोना से सिखा है उसको  रखे। हमारी आने वाली पीढ़ियों के लिए हम प्रकृति को बचा कर रखे।  

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Yeh Rishta Kya Kehlata Hai / रिश्ता किसे कहते हैं ?

  रिश्ता किसे कहते हैं ?/rishta kise kahate hain. rishte ehsas ke hote hain दोस्तों, आज कल 'ये रिश्ता क्या कहलाता है' फेम दिव्या भटनागर बहुत चर्चा में है। उसकी मौत तो covid 19 के कारन हुई है।  लेकिन उसके परिवार और friends के द्वारा उसके पति पर उनकी मौत का इल्जाम लगाया जा रहा है। ( हम यहाँ किसी पर भी आरोप नहीं लगाते, ये एक जांच का विषय है। )  ऐसा ही कुछ सुंशांत सिंह राजपूत के मौत के वक्त भी हुआ था। उनके मृत्यु के बाद उनके परिवार और friends ने भी ऐसे ही किसी पर आरोप लगाया था। उनकी मौत का जिम्मेदार माना था।  इनकी स्टोरी सच है या क्या जूठ ये हम नहीं जानते, न ही हम उसके बारे में कोई discussion करेंगे।  मगर ये सुनने के बाद एक विचार मेरे मन में ये सवाल उठा की ये हो-हल्ला उनकी मौत के बाद ही क्यू ? उनसे पहले क्यों नहीं? अब ऐसा तो नहीं हो सकता की उनके रिश्तेदारों को इस चीज़ के बारे में बिलकुल पता ही न हो?  ये बात केवल दिव्या भटनागर या सुशांत सिंह राजपूत की ही नहीं है। ये दोनों की story तो इसलिए चर्चा में है, क्योकि ये दोनों काफ़ी successful हस्तिया थी।  मगर हमने अपने आसपास और समाज में भी ऐ

5 Tips Life me Khush Kaise Rahe In Hindi

   life me khush rehne ke tarike/ happy life tips in hindi दोस्तों, जब से ये दुनिया बनी है तब से आदमी की एक ही इच्छा रही है के वे अपने जीवन में हमेश खुश रहे। चाहे वो पाषाण युग हो या आजका 21st century हो। हमारा हर अविष्कार इसी सोच से जन्मा है। चमच्च से ले कर रॉकेट तक हमने इसीलिए बनाये है ताकि हम अपने जीवन में खुश रहे।  आज 21st century में तो हमारे जीवन को आसान और खुश रखने के लिए  gadgets की तो मानो बाढ़ सी आ गयी है। चाहे घर का काम हो या ऑफिस का चुटकि बजा कर हो जाता है। घर बैठे मिलो दूर अपने अपनों से न केवल बात कर सकते है मगर उसको देख भी सकते है।  आज internet ने अपना साम्राज्य इस कदर फैलाया है की, दुनिया के किसी भी कोने में क्या हो रहा है वो आप दुनिया के किसी भी कोने में बेठ कर देख सकते है। आज से पहले इतनी सुविधा कभी पहले नहीं थी। हर बात में आज का युग advance है।  शायद ही ऐसा कोई मोर्चा हो जहा पर हम ने तरक्की न करी हो। पर अब सवाल ये उठता है की इतनी तरक्की करने के बाद क्या हमने वो हासिल किया है जिसके लिए हमने इतनी तरक्की करी है? आज हमारे पास सबसे बढ़िया गाड़ी है, घर है, कपडे है, घडी है, जुते

kya bacho ko mobile dena chahiye?

  क्या बच्चो के लिए खतरनाक है मोबाइल? दोस्तों, क्या बच्चो को मोबाइल देना चाहिए? ये सवाल आज के युग का एक बहोत ही बड़ा सवाल है। हर माँ बाप को ये सवाल सताता है की क्या हमें अपने बच्चो को मोबाइल देना चाहिए या नहीं ? इस पर एक लम्बी चौड़ी कभी न ख़तम होने वाली बहेस होती है और होती रहेगी। लेकिन यहाँ कुछ point पर ध्यान देना भी बहुत ही जरुरी है।  सबसे बड़ा सवाल ये है की बच्चो को मोबाइल की क्या जरुरत है? मोबाइल का उपयोग हम आमतौर पर किसी से बाते करने में, अपने ऑफिस वर्क के लिए या लोकशन सर्च के लिए होता है। ये सारे ज़रूरी काम है जो बिना मोबाइल के नहीं हो सकता राइट? तो अब सवाल ये उठता है की बच्चो को मोबाइल क्यों जरुरी है? बच्चो को नहीं किसी से जरुरी बात करनी होती है, और न ही ऐसा कोई काम जो बिना मोबाइल के पूरा न होता हो। बाहर वो हमारे साथ जाता है। पूरा दिन वो स्कूल या collage में अपने friends के साथ  होता है, और यदि  कुछ काम हो तो वो हमारा फ़ोन use कर सकता है। मुझे नहीं लगता की ऐसा कोई एक कारन हो,  जिसकी बजह से हमें अपने बच्चो को उनका खुद का मोबाइल खरीदकर देना पड़े।   दोस्तों, हम अपने बच्चो को मोबाइल क्यों