सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

What is secret of success in life in hindi/safalta ka raaz

 सफलता का रहस्य (secret of success)

3 secreat of success in hindi.  safalta ka rahsy


दोस्तों, आज कल हर एक आदमी सफल बनना चाहता है। how to become success in life? इसी एक सवाल का जवाब लोग लगातार खोजते रहते है। successful बनने की होड़ मात्र युवानों में ही है ऐसा नहीं है। आज कल हर उम्र के लोग अपने जीवन में सफल बनना चाहते है। सब लोग यही जानने और समझने में लगे है की आखिर लोग इतने सफल कैसे बनते है? 

जिनके पास कुछ नहीं होता वो लोग रातो रात करोड़पति कैसे बन जाते है? हर कोई अम्बानी, अडानी, टाटा, बिरला बनना चाहते है। पर हम सब जानते है की हर कोई इतने सफल नहीं बन सकते। हर कोई जानना चाहता है इनके सफलता का मंत्र। 

वैसे तो सफलता (success) के कई तरीके है। सफलता पाने के लिए केवल एक दो पैमाने नहीं होते बल्कि कई सारे  पैमानों पे खरा उतरना पड़ता है। पर मै यहाँ पर कुछ सफलता के नियम (success tips ) बताउंगी जिनके बगैर कोई भी जीवन में सफल हो ही नहीं सकता। किसी भी सफल इन्सान चाहे वो किसी भी धर्म का, किसी भी फिल्ड का हो उसने अपने जीवन में इन नियमो का जरूर पालन किया होगा। इसीलिए आज वो इतना सफल है। इन नियमो के पालन के बिना कोई भी सफल नहीं हो सकता। 

तो यदि आप को भी अपने जीवन में सफल  होना है, तो आपको भी ये सफलता के नियम (success tips) अपनाने पड़ंगे। चलिए step by step इन नियमो को जानते है। 

Positive thinking. (सकारात्मक सोच )

कोई भी सफलता का मूल मंत्र  है सकारात्मक विचार (positive thinking ). बिना इसके कोई भी अपने जीवन में सफल हो ही नहीं सकता। 

आज कल हर कोई ये बात माने ने लगा है की, जैसी हमारी सोच होगी वैसा ही हमारा जीवन भी होगा। हम जैसा सोचेंगे हम वैसा ही बन पाएंगे। ये बात सो प्रतिशत (100 %) सच है। science ने ये बात prov भी करी है। 

हम सब अपने जीवन में जो ग़लत होता है, उसका दोषरोपण दुसरो पे करते है। पर यदि हम सोचे तो हम पाएंगे के हमारे मन में हमारे जीवन के प्रति यही भाव थे। हम ऐसा ही सोच ते थे। इसीलिए आज हमारे साथ ये हुआ है। 

THINK POSITIVE AND POSITIVE THINK WILL HAPPEN

जैसे हमारे विचार होंगे, वैसा ही हमारा जीवन होगा। इसलिए जब भी हम सफल होने के प्रयास चालू करे उसके result के बारे में हमेशा positive रहे। यदि हमारी मानसिक स्थिति positive नहीं हो तो उस कार्य को postpone करे और पहले positive मानसिक स्थिति बनाये। 
Once you replace negative thoughts in positive ones, you will start having positive result.

इसलिए चाहे कुछ भी हो जाये जीवन में पॉजिटिव ही रहना चाहिए। उसके लिए meditation एक सरल और असरकारक उपाय है। उसके अलावा positive quotes, success stories, reading ये सरे चीज़े भी positive thinking में  हेल्प कर सकती है। 

याद रहे एक सकारात्मक सोच ही एक सकारात्मक जीवन बना सकती है। 

Strong Mind.

 Positive thought के लिए एक बहोत ही strong mind चाहिए। एक strong mind ही किसी भी परिस्थिति में सकारात्मक रह सकता है। जब तक हम मानसिक तैयार नहीं होंगे, तब तक हम  कोई भी लड़ाई लड़ ही नहीं सकते। 

सोचिये  जब हम कोई मिट्टी वाली वस्तु को नल के निचे रखते है तब, अगर पानी का force ज़्यादा हो तो बड़ी ही आसानी से वो मिट्टी हट जाती है। पर पानी का force कम हो तो उस मिट्टी को निकाल ने में हमें ज्यादा महेनत करनी पड़ेगी। ठीक इसी तरह अगर हमारा mind strong है तो हमारे अंदर पहले तो negative thought आएंगे ही नहीं। यदि आ भी गए तो हम बहोत ही आसानी से उसको निकाल सकते है, या तो positive thought में convert कर सकते है। पर यदि हमारा mind strong नहीं है तो हमें हर positive चीज़े भी negative देखेगी। 

If you have a strong mind and plant in it a firm resolve, you can change your destiny.
किसी भी सफल  इंसान को देख लो, हर एक के पास एक strong mind है। जो हर परिस्थिति में उनको सकारात्मक रखता है। कभी हार नहीं मानने देगा। क्योकि powerful mind कभी problems को नहीं देखता वो हमेशा solution ढूंढता है। वो कभी दूसरो में दोष नहीं देखता वो हमेंशा अपनी कमी ढूढ़ता है। असफलता आने पर वो कभी हार नहीं मानता, पर संकट को अवसर में बदल देता है। उसका श्रेष्ठ उदहारण  कोरोना काल हैं। 

इस कोरोना काल में कई लोगो ने भगवान, क़िस्मत को दोष दे कर बैठ गए और भूखो मर गए। वही कुछ लोग उस से सिख ले कर मास्क, PPT KIT, ONLINE CLASS, ONLINE GROCERY AND MEDICAL जैसे BUSINESS खोल कर इस संकट को सुविधा में बदल दिया है। ये हे है एक STRONG MIND की निशानी। 

Strong mind suffer whiteout complying, week mind complain whiteout suffering. 

इसीलिए जो भी इंसान अपने जीवन में सफलता पाना चाहता है, उसको अपने जीवन में से शिकायत करना बंध करना होगा। हर PROBLEM के SOLUTION पर उसकी नज़र रहनी चाहिए। ये काम एक शसक्त मानसिकता वाला इंसान ही कर सकता है। 

Avoid negative people

हमारे और success के बिच में सबसे बड़ी कोई भी रूकावट है तो वो है negative person. नेगेटिव लोग न ही खुद कभी लाइफ में आगे बढ़ सकते है और न ही कभी दुसरो को बढ़ने देंगे। वो हमेशा दुसरो के रस्ते का रोड़ा बन कर रहेंगे। वो कभी हमें ये नहीं कहेंगे की हम ये कर सकते है। उनके जीवन का एक ही मंत्र होता है की 'ये नहीं हो सकता'। बस यही एक वाक्य में वो जीवन में विश्वास रखते है। ये विश्वास इतना पक्का होता है की अच्छे अच्छे  confidence वाले आदमीका भी confidence वे हिला दे। 

हम कुछ भी कर ले इनको कभी positive नहीं कर सकते। इन से बचने के दो ही रास्ते है, एक उनको न सुने और दूसरा उनसे दूर रहा जाये।  

पहला रास्ता बहुत ही कठिन है, क्योकि जब हम कुछ सुनते है तो उसका प्रभाव हमारे विचरो पे पड़ता ही है। जब एक ही शब्द हमारे कानो में बार बार पड़ेंगे तब उनका असर हमारे जीवन में, हमारे confidence में पड़ेगा। 

उसका श्रेष्ठ उदहारण है कर्ण। महाभारत युद्ध में जब अंतिम बार अर्जुन और कर्ण का युद्ध हो रहा था, तब कर्ण के सारथि बने राजा शल्य बार बार कर्ण को निम्न और अर्जुन को श्रेष्ठ कहते रहे। इसका असर कर्ण के confidence पर भी हो रहा था। इसका वर्णन महभारत में है।  जब कर्ण जैसे महारथी भी इन negativity से नहीं बच पाए तो हमारा क्या कहना ? 

इसीलिए नकारात्मक लोगो से दूर रहे चाहे वो हमारे कितने भी नज़दीकी क्यों न हो। वो हमें कभी सफलता के मार्ग पर चलने ही नहीं देंगे। 

Amazing thinks happen when you distance yourself from negative people.

 ये तीन सफलता का रहस्य (secret of success) है जो हर सफल लोगो ने अपनाया है। इसके बगैर सफलता की कल्पना तक नहीं की जा सकती। ये पढ़ने में जितना आसान लगता है इतना ही जीवन में उतरना मुश्किल है, पर नामुमकिन नहीं। वैसे भी जीवनमे सफलता पाना भी तो मुश्किल ही है। 

तो जब भी हम सफलता की कोशिशे करे सबसे पहले इन तीन चीज़ो पे work करे। ये 100 % success की guarantee है। 

Read this : सफ़ल लोगो को क्या नहीं करना चाहिए?

key of success


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Yeh Rishta Kya Kehlata Hai / रिश्ता किसे कहते हैं ?

  रिश्ता किसे कहते हैं ?/rishta kise kahate hain. rishte ehsas ke hote hain दोस्तों, आज कल 'ये रिश्ता क्या कहलाता है' फेम दिव्या भटनागर बहुत चर्चा में है। उसकी मौत तो covid 19 के कारन हुई है।  लेकिन उसके परिवार और friends के द्वारा उसके पति पर उनकी मौत का इल्जाम लगाया जा रहा है। ( हम यहाँ किसी पर भी आरोप नहीं लगाते, ये एक जांच का विषय है। )  ऐसा ही कुछ सुंशांत सिंह राजपूत के मौत के वक्त भी हुआ था। उनके मृत्यु के बाद उनके परिवार और friends ने भी ऐसे ही किसी पर आरोप लगाया था। उनकी मौत का जिम्मेदार माना था।  इनकी स्टोरी सच है या क्या जूठ ये हम नहीं जानते, न ही हम उसके बारे में कोई discussion करेंगे।  मगर ये सुनने के बाद एक विचार मेरे मन में ये सवाल उठा की ये हो-हल्ला उनकी मौत के बाद ही क्यू ? उनसे पहले क्यों नहीं? अब ऐसा तो नहीं हो सकता की उनके रिश्तेदारों को इस चीज़ के बारे में बिलकुल पता ही न हो?  ये बात केवल दिव्या भटनागर या सुशांत सिंह राजपूत की ही नहीं है। ये दोनों की story तो इसलिए चर्चा में है, क्योकि ये दोनों काफ़ी successful हस्तिया थी।  मगर हमने अपने आसपास और समाज में भी ऐ

5 Tips Life me Khush Kaise Rahe In Hindi

   life me khush rehne ke tarike/ happy life tips in hindi दोस्तों, जब से ये दुनिया बनी है तब से आदमी की एक ही इच्छा रही है के वे अपने जीवन में हमेश खुश रहे। चाहे वो पाषाण युग हो या आजका 21st century हो। हमारा हर अविष्कार इसी सोच से जन्मा है। चमच्च से ले कर रॉकेट तक हमने इसीलिए बनाये है ताकि हम अपने जीवन में खुश रहे।  आज 21st century में तो हमारे जीवन को आसान और खुश रखने के लिए  gadgets की तो मानो बाढ़ सी आ गयी है। चाहे घर का काम हो या ऑफिस का चुटकि बजा कर हो जाता है। घर बैठे मिलो दूर अपने अपनों से न केवल बात कर सकते है मगर उसको देख भी सकते है।  आज internet ने अपना साम्राज्य इस कदर फैलाया है की, दुनिया के किसी भी कोने में क्या हो रहा है वो आप दुनिया के किसी भी कोने में बेठ कर देख सकते है। आज से पहले इतनी सुविधा कभी पहले नहीं थी। हर बात में आज का युग advance है।  शायद ही ऐसा कोई मोर्चा हो जहा पर हम ने तरक्की न करी हो। पर अब सवाल ये उठता है की इतनी तरक्की करने के बाद क्या हमने वो हासिल किया है जिसके लिए हमने इतनी तरक्की करी है? आज हमारे पास सबसे बढ़िया गाड़ी है, घर है, कपडे है, घडी है, जुते

kya bacho ko mobile dena chahiye?

  क्या बच्चो के लिए खतरनाक है मोबाइल? दोस्तों, क्या बच्चो को मोबाइल देना चाहिए? ये सवाल आज के युग का एक बहोत ही बड़ा सवाल है। हर माँ बाप को ये सवाल सताता है की क्या हमें अपने बच्चो को मोबाइल देना चाहिए या नहीं ? इस पर एक लम्बी चौड़ी कभी न ख़तम होने वाली बहेस होती है और होती रहेगी। लेकिन यहाँ कुछ point पर ध्यान देना भी बहुत ही जरुरी है।  सबसे बड़ा सवाल ये है की बच्चो को मोबाइल की क्या जरुरत है? मोबाइल का उपयोग हम आमतौर पर किसी से बाते करने में, अपने ऑफिस वर्क के लिए या लोकशन सर्च के लिए होता है। ये सारे ज़रूरी काम है जो बिना मोबाइल के नहीं हो सकता राइट? तो अब सवाल ये उठता है की बच्चो को मोबाइल क्यों जरुरी है? बच्चो को नहीं किसी से जरुरी बात करनी होती है, और न ही ऐसा कोई काम जो बिना मोबाइल के पूरा न होता हो। बाहर वो हमारे साथ जाता है। पूरा दिन वो स्कूल या collage में अपने friends के साथ  होता है, और यदि  कुछ काम हो तो वो हमारा फ़ोन use कर सकता है। मुझे नहीं लगता की ऐसा कोई एक कारन हो,  जिसकी बजह से हमें अपने बच्चो को उनका खुद का मोबाइल खरीदकर देना पड़े।   दोस्तों, हम अपने बच्चो को मोबाइल क्यों