सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Apne Goal Ko Apni Jarurat /Junoon Banao. / Success Tips

Success tips with Arunima Sinha 

Iron lady arunima sinha .success story.


 जिस दिन किसी भी लक्ष के प्रति आपकी अंतर आत्मा जग गई उस दिन आपको सफल होने से कोई नहीं रोक सकता। 

दोस्तों, जरा सोचिये हमें अगर कोई चलती ट्रैन में से निचे फेंक देता है, और हमारे दोनों पाव चले जाये तो हम उस समय क्या सोचेंगे? लगभग हम सब उस समय सब से पहले तो भगवान को कोसेंगे। suicide का सोचेंगे। हमारा जीवन निराशा से भर जायेगा। अब आगे क्या ? ये सोच सोच कर हम depression में चले जायेंगे। जिस इंसान ने हमें  फेका उससे  कैसे हम बदला ले ? यही सारी  बातें हमारे दिमाग में होती है। 

यही फर्क होता है एक आम इंसान में और एक चैम्पियन में। आज हम भारत की पहली अपाहिज महिला जिसने mount Everest  सर किया (अरुणिमा सिन्हा ) उसके जीवन की कहानी के जरिये success tips देखेंगे। 

लोगो की मत सुनो। 

जब अरुणिमा सिन्हा को चलती ट्रैन से  इसलिए फेका निचे क्योकि उन्होंने बदमाशों को उसने अपनी सोने की चैन नहीं देनी थी। उसको चलती ट्रैन से निचे फेक दिया और उसके दोनों पैर कट गए। अरुणिमा एक नेशनल प्लेयर थी। उसको treatment तो अच्छी मिली, पर न्यूज़ चैनेलों और अख़बार वालो  ने बिना कोई पड़ताल किये उसके ऊपर बिना टिकट के ट्रैन में चढ़ने का आरोप लगाया। उनके घर वालो ने उसका खंडन किया तो दूसरा इलज़ाम लगाया की वो आत्महत्या करने जा रही थी। 

अरुणिमा के घर वाले चिल्लाते रह गए की ये सब जूठ है। पर उसकी सुनने वाला कोई भी नहीं था। एक आम आदमी की चाहे कितना भी चिल्लाए पर बड़े बड़े मिडिया वालो के सामने उनकी कौन सुनता ? जिस लड़की के एक पाँव कट गया था, एक पाँव पूरी तरह से फेक्चर था। उसकी जिंदगी का पता नहीं था। यहाँ तक की उनकी स्पाइन में ३ फेक्चर था। उसके ये भी नहीं पता था की वो कभी उठ भी पाएंगी के नहीं। 

हम अंदाज़ा भी नहीं लगा सकते के उस पे और उसके परिवार पे क्या बीती होंगी। 

इस हालत में जब कोई भी आम इन्सान हताश हो जाता, depression में चला जाता या बदले की भावना उसके मन में घर कर जाती। मगर ये अरुणिमा सिन्हा थी जिसने hospital के bad पर अपने कटे हुए पाव को देख कर, और न्यूज़ में छपी खबरों को देख कर सोचा की,  आज तुम्हार दिन है,  पर कल मेरा दीन होगा। मैं एक दिन साबित कर दूंगी की मैं क्या हूँ ?अब मैं वो मक़ाम हासिल करुँगी जब मुझे सुना भी जायेगा और माना भी जायेगा। अब मैं वॉलीबॉल नहीं पर दुनिया का सब से बड़ा पर्वत  (एवेरेस्ट) सर करूंगी। 

वो पर्वत जिसको सर करने की कल्पना भी हम जैसे पुरे लोग सोच भी नहीं सकते। उसको सर करने का निर्णय अरुणिमा ने अपने कटे पैरो को देख के लिया। शायद यही फर्क है एक आम इंसान में और एक सक्सेसफुल इंसान में। 

कोई भी ऐसी बाते सुनेगा तो यही लगेगा की पैर के साथ उसका दिमाग भी चला गया है। अरुणिमा के साथ भी यही हुआ। लोगो को लगा की उसको बहुत ही गहरा सदमा लगा है। यहाँ तक की लोगो उनके सामने  कटाक्ष कर ने भी चालू किये। सब का एक ही कहना था की, चुप चाप घर बैठो और अब आगे कैसे जीवन व्यतीत करना है उसके बारे में सोचो। 

पर ये अरुणिमा थी। वो कहा किसी की सुन ने वालो में से थी। उसने तो जैसे तय कर ही लिया था। जब न्यूज़ चैनल में चली न्यूज़ से वो नहीं टूटी, तो आम लोगो की बातो से भला वो कैसे अपने लक्ष को छोड़ देती ? उसके ऊपर तो मानो जूनून था। उसने बिना किसि की भी सुने अपने लक्ष की और कदम बढ़ाना शुरू कर दिया। 

जो सोचो वो करो। 

hospital से निकल ने के बाद उनका एक पैर नकली था और एक पैर पूरी तरह से फेक्चर था। लोग ये सोचते  है की अब आगे का जीवन कैसे जिए ? जब हम जैसे आम लोग दुसरो के प्रति सहानुभूति की उम्मीद करते है। 'बेचारे' बन कर जीते है। उस समय उसके मन में दो ही बाते चल रही थी की, लोगो को जवाब कैसे देना है और Everest सर कैसे करना है ?

करनी और कथनी में बहोत ही बड़ा अंतर होता है। अरुणिमा ने केवल सोच ही नहीं पर करना भी था। hospital से निकल ने के बाद वो सीधा बछेंद्री पाल (पहली भारतीय महिला जिस ने Everest सर किया था। ) उसके पास गयी। 

कहते है की हिरा को केवल जोहरी ही परख सकता है। एक सफल इंसान को केवल एक successful इंसान ही परख सकता है । अरुणिमा को देख के बछेंद्री पाल ने कहा ही, ' अरुणिमा तुम ने ये सोचा तब ही तुम ने Everest सर कर लिया है, अब केवल लोगो को दिखाने के लिये ही सर करना बाकि है।' 

बछेंद्री पाल ने अरुणिमा के लिए फाइनेंस से ले कर सारी तैयारिया करवा दी। अब बारी थी अरुणिमा को अपने आपको साबित करने की। 

Hard Work 

You get what you work for, not what you wish for.

success के लिए केवल सपने से काम नहीं चलेगा पर उसको पाने के लिए hard work चाहिए। जितने आसान काम सपने देखने का है उससे कई गुना ज्यादा महेनत करनी पड़ती है। 

अरुणिमा को Everest सर करने के लिए उसकी तालीम की व्यवस्था तो कर दी थी। पर उसके लिए ये training करना बहुत ही मुश्किल था। रोड पर से बेस कैंप पहोचने में दूसरे लोगो को जहा २ मिनट्स लगते थे वही पर अरुणिमा को 3 घंटे लगते थे। २ minutes का सफर उसके लिए 3 घंटे का था। 

इसी एक बात से हम समज सकते  है की अरुणिमा को दूसरे के मुकाबले कितनी गुना ज्यादा महेनत करनी पड़ेगी। जब भी हम दुसरो से ज्यादा महेनत करते है और दूसरे कम महेनत में हम से ज्यादा सफलता प्राप्त करते है, तब हम हताश हो कर के शिकायतों में और अपने नसीब को कोष ने में अपनी सरे energy खर्च कर देते है। 

पर successful लोग अपनी एनर्जी को सबसे बहेतर बनाए में लगाते है। अरुणिमा ने इस बात को एक challenge के रूप में लिया और केवल आठ महीने की training के  समय बेसकैम्प से पूरा सामान ले कर निकल कर चोटी पर सबसे पहले पहुँचती थी। 

कुदरत की परीक्षा से मत गभराओ। 

अरुणिमा ने सफलता से अपनी ट्रेनिंग तो पूरी कर ली। अब बारी थी अपने सपनो को साकार करने की। जितनी मुश्किल ट्रेनिंग में होती है उससे कई जयादा मुश्किल मैदान में उतरने के बाद होती है। अरुणिमा को उसका अहसास पहले ही कदम में हो गया। उसको देख कर ही उसके शेरपा (जो हर एवेरस्ट चढ़ने वालो के साथ उसका एक लोकल आदमी रहता है। ) ने उसके साथ जाने से मना कर दिया। जैसे तैसे उसको मनाया। 

तीन कैंप के बाद Everest पर green and blue बर्फ आती है।  जहा पर अपने पैर से बर्फ को तोड़कर जगह बनानी पड़ती है अरुणिमा अपने पेअर को मरती तो उसका आर्टिफिशियल पाँव निकल जाता। वो फिर उसको पहनती और आगे बढ़ती। 

Everest की चढाई ज्यादातर रात को ही होती है। अपने ऊपरी चढाव में जगह जगह पर एवेरेस्ट सर करने के सपने देख ने वाले की लाशे थी। जिस जगह हम जाना चाहते है उस जगह जाने वालो की ये हालत देख कर अच्छे अच्छे मनोबल वालो के मनबल टूट जाते है। पर सफल लोगो की बात ही कुछ और होती है। वो उससे सबक ले कर आगे बढ़ते है। उसने इस समय उनको वादा किया की आप में से जितने एवेरेस्ट नहीं चढ़ा उन सब के लिए मैं चढूँगी। 

हिलेरी साउथ summit तक पहुंची, अब एवेरेस्ट कुछ ही दूर था। तब उसके शेरपा ने कहा अरुणिमा वापस चलो तुम्हारा oxygen ख़तम होने को आया है। अपने लक्ष के इतने करीब पहुंचने पे जब हमें ये पता चले की आप वहा पे पहुच नहीं सकते। उसकी कल्पना करना भी मुश्किल था। यहाँ बात जान की थी यदि जान ही नहीं रहेगी तो लक्ष पाए या न पाए क्या फर्क ?

 किसी के भी हौशले ध्वस्त हो जाते। पर अरुणिमा ने बिना सोचे आगे बढ़ी और करीब एक घंटे के बाद उसने एवेरेस्ट सर किया। निचे उतरते समय कुछ ही दूर गए होंगे तब उसका oxygen पूरी तरह से ख़तम हो गया था। अब उसक जिन्दा लौटना न मुमकिन था। पर जब आप पूरी महेनत और ईमानदारी से अपने लक्ष के प्रति समर्पित होते हो तो भगवान को भी मजबूर होना पड़ता है आपकी मदद करें के लिए। 

एक mountaineer के आस दो oxygen थे। एक को फेका और वो वापस चला गया। वो oxygen ले कर अरुणिमा निचे उतर गयी। 

दोस्तों इस iron lady की इस कहानी से हमें एक ही सबक मिलता है की, यदि हम अपने लक्ष के प्रति पूर्ण समर्पित होते है तो दुनिया की कोई भी ताकत हमें अपने गोल तक पहुंचने से रोक नहीं सकती। 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Yeh Rishta Kya Kehlata Hai / रिश्ता किसे कहते हैं ?

  रिश्ता किसे कहते हैं ?/rishta kise kahate hain. rishte ehsas ke hote hain दोस्तों, आज कल 'ये रिश्ता क्या कहलाता है' फेम दिव्या भटनागर बहुत चर्चा में है। उसकी मौत तो covid 19 के कारन हुई है।  लेकिन उसके परिवार और friends के द्वारा उसके पति पर उनकी मौत का इल्जाम लगाया जा रहा है। ( हम यहाँ किसी पर भी आरोप नहीं लगाते, ये एक जांच का विषय है। )  ऐसा ही कुछ सुंशांत सिंह राजपूत के मौत के वक्त भी हुआ था। उनके मृत्यु के बाद उनके परिवार और friends ने भी ऐसे ही किसी पर आरोप लगाया था। उनकी मौत का जिम्मेदार माना था।  इनकी स्टोरी सच है या क्या जूठ ये हम नहीं जानते, न ही हम उसके बारे में कोई discussion करेंगे।  मगर ये सुनने के बाद एक विचार मेरे मन में ये सवाल उठा की ये हो-हल्ला उनकी मौत के बाद ही क्यू ? उनसे पहले क्यों नहीं? अब ऐसा तो नहीं हो सकता की उनके रिश्तेदारों को इस चीज़ के बारे में बिलकुल पता ही न हो?  ये बात केवल दिव्या भटनागर या सुशांत सिंह राजपूत की ही नहीं है। ये दोनों की story तो इसलिए चर्चा में है, क्योकि ये दोनों काफ़ी successful हस्तिया थी।  मगर हमने अपने आसपास और समाज में भी ऐ

5 Tips Life me Khush Kaise Rahe In Hindi

   life me khush rehne ke tarike/ happy life tips in hindi दोस्तों, जब से ये दुनिया बनी है तब से आदमी की एक ही इच्छा रही है के वे अपने जीवन में हमेश खुश रहे। चाहे वो पाषाण युग हो या आजका 21st century हो। हमारा हर अविष्कार इसी सोच से जन्मा है। चमच्च से ले कर रॉकेट तक हमने इसीलिए बनाये है ताकि हम अपने जीवन में खुश रहे।  आज 21st century में तो हमारे जीवन को आसान और खुश रखने के लिए  gadgets की तो मानो बाढ़ सी आ गयी है। चाहे घर का काम हो या ऑफिस का चुटकि बजा कर हो जाता है। घर बैठे मिलो दूर अपने अपनों से न केवल बात कर सकते है मगर उसको देख भी सकते है।  आज internet ने अपना साम्राज्य इस कदर फैलाया है की, दुनिया के किसी भी कोने में क्या हो रहा है वो आप दुनिया के किसी भी कोने में बेठ कर देख सकते है। आज से पहले इतनी सुविधा कभी पहले नहीं थी। हर बात में आज का युग advance है।  शायद ही ऐसा कोई मोर्चा हो जहा पर हम ने तरक्की न करी हो। पर अब सवाल ये उठता है की इतनी तरक्की करने के बाद क्या हमने वो हासिल किया है जिसके लिए हमने इतनी तरक्की करी है? आज हमारे पास सबसे बढ़िया गाड़ी है, घर है, कपडे है, घडी है, जुते

True success in life (जिस थाली में खाना उसी में छेद करना )

m   जिस थाली में खाना उसी में छेद करना  सं सद से ले के हर गली चौराहे पर ये मुहावरा बड़ा प्रचलित हो रहा है। जिसका कारण है हमारे लीजेंड जया बच्चनजी। (मैं यहाँ किसी का समर्थन या असमर्थन नहीं करती ) संसद में उनका बयांन सुनने और न्यूज़ चैनल में डिबेट सुनने के बाद मैं यही सोचती रही की, अगर इस प्रचलित मुहावरे लोकोक्तियों  का असली मतलब निकलना हो तो क्या निकाल सकते है?   इसका सिंपल सा अर्थ होता है की जिसके कारण आप success हुए है उसको बदनाम करना। मगर अब सोच ने की बात ये है की जीस संस्था या  इंडस्ट्रीज़  के द्वारा आप सफल हुए हो। जिसके कारन आपकी एक success images बानी हो। उसको कोई नुकसान पहुंचाए उस समय गलत को गलत कहे ना थालीमें छेद करना होगा या चुप चाप उस संस्था को या उस  इंडस्ट्रीज़  को बर्बाद होता देखना थाली में छेद करना होगा? क्योकि अगर देखा जाये तो दोनों को ही थाली में छेद करना ही कहेंगे।  तो क्या करे? उसको एक बहुत ही सिंपल way मैं अगर समजे तो मान लीजिये आपका एक भरा पूरा परिवार है। उसमे एक भाई दूसरे भाई का बुरा करता है, मगर जो भाई दूसरे का बुरा करता है ऊसके आपके साथ सम्बन्थ बहुत ही अच्छे है और ज