सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Why Children Lie - बच्चे झूठ क्यों बोलते हैं | Parenting Tips in hindi part 4

How to be a best parents

How to be a good parents ? this is a big questions for all new parents. here new  parenting tips.


 दोस्तों, जब बच्चे का जन्म होता है तब बच्चा एक अबोध और मासूम होते है। उसको सच या झूठ  का, गलत-सही का कुछ भी ज्ञान नहीं रहता। पहले के समय में ये कहा जाता था की १० वर्ष की आयु तक बच्चा जो भी करता है उसका कर्म फल नहीं बंधता। क्योकि बच्चा अबोध होता है। वो निर्मल होता है। उसको समज ही नहीं होती है। 

अब यहाँ पर प्रश्न ये उठता है की यदि बच्चा अबोध होता है तो वो झूठ  बोलना कैसे सीखता है ? आज कल के बच्चे तो बहुत ही कम आयु में या ये कहे की शुरू से ही झूठ बोलना चालू कर देते है। जब की हम सब बच्चो को यही सिखाते है की झूठ  नहीं बोलना चाहिए। ये गलत है। हमें पाप लगता है। वगेरा.. वगेरा.... 

दोस्तों हम चाहे माने  या न माने पर बच्चे झूठ  बोलना घर से ही सिखाते है। उसमे भी सबसे ज्यादा अपने माता-पिता से ही सिखते है। हम ही आने अनजाने में बच्चोकोझूठ  बोलना सिखाते है। 

यहाँ पर मैं कुछ सीन दिखती हूँ। इस से मेरी बात और भी जायदा स्पष्ट हो जाएगी। 

Scene 1 

सोचिये यदि हमारा  जाने का प्रोग्राम है और इसी समय कोई friend या relative हमारे यहाँ आने के लिए कॉल करते है। तब हम क्या करते है ? ज्यादा तर लोग उस समय झूठ ही बोलते है की हमारी तबियत ठीक नहीं है या कुछ और झूठ।  पर हम सच नहीं बताते की हमें बाहार जाना है। और यर झूठ  बच्चो के सामने बेधड़क बोलते है। 

Scene 2 

इसी तरह से यदि हमें office जाने का मूड नहीं होता है, तो हम अपनी  family member की तबियत का बहाना भी बना देते है। कई बार तो बच्चो को call कर के जूठ बोलने को कहते है। क्या ये हमारे घरो में आम बात नहीं है ?

Scene  3 

हम कही बहार शॉपिंग करने जाते है। उस समय हम किसी दुकानदार को ये कहकर भाव काम करने की कोशिश करते है की, सामने तो १०० की जगह ५० रुपये में देते है। जब की ऐसा कुछ नहीं होता बल्कि वह पर यहाँ से १०-२० रुपये ज्यादा ही बताया था। उस समय भी बच्चे हमारे पास होते है, वो ये सब देखते और सुनते है। और यही से शुरू होता है झूठ बोलने का सिलसिला। 

ये सारी और ऐसी कई बाते हमारे घरो में इतनी आम है की उसकी और हमारा ध्यान ही नहीं जाता। हमें लगता ही नहीं के ये झूठ है। इस झूठ को हमने अपनी life का हिस्सा इस तरह बनाया है की अब ये सरे झूठ हमें झूठ  लगते ही नहीं। 

आज कल तो किसी को झूठ बोलकर उल्लू बनाना को smart कहा जाता है। आप जितना ज्यादा झूठ बोल कर किसी का विश्वासघात करेंगे उतनी ही आप की इज़्ज़त समाज में और बढ़ेगी। आज कल हर माता-पिता ये चाहता है की उसका बच्चा सबसे smart (झूठा) बने। हम खुद इसलिए बच्चो को coaching देते है। 

डर की वहज से बच्चे झूठ बोलना सिखते है। 

उस coaching का जब तक बच्चा दुसरो पर use करे तब तक ठीक है। पर जब हमें पता चलता है की बच्चा हमसे जूथ बोलै है तब हम उसको साजा देते है। उसका नतीजा ये होता है की बच्चा उस सजा से बचने के लिए बार बार झूठ का सहारा लेता है। बच्चे की झूठ बोलने का सबसे बड़ा कारण उसका डर होता है। 

कई बार हम बच्चो को उनकी छोटी सी गलती के लिए सबके सामने डाट देते है। जिन से बच्चो को बहोत ही शर्मिंदगी होती है। हमें लगता है की, बच्चे को कुछ पता नहीं चलता। पर उनको भी अपनी self respect होती है। बार बार ऐसा होने से वो उस शर्मिंदगी से बचने के लिए झूठ का सहारा लेते है। 

मेरी एक friend है। उसने मुझसे ये बात शेयर करी है। आज कल कोरोना के चलते online class चल रहे है। उस दौरान उसने देखा की, उसके बच्चे की class teacher सभी बच्चो को उसकी छोटी छोटी गलती के कारन सब के सामने सुनाया करती थी। यदि ५ minutes late हो गए, या उसके पूछने पर un mute करने में कुछ देर हो जाती तो बच्चो को बहुत ही बुरी तरह से सुनाया करती थी। 

उन सब बातो का ये असर हुआ की उसका बच्चा छोटी सी  गलती होने पर भी झूठना चालू कर दिया। उसको ये डर रहता था की कही उसकी teacher उसको सबके सामने डाट न दे। वो बच्चा कोई बड़ा नहीं है पर अभी वो K.G. 2 में है। 

ये एक EXAMPLE ही काफी है बच्चे की मानसिकता को जानने के लिए।

 कई बार बचो को पता भी नहीं है की वो झूठ बोल रहा है। उस समय उसको डाट ने से या उसको सज़ा देने से उसकी मानसिकता पर बहुत ही गलत असर पड़ता है। उसका confidence low होता है। वो अपने आप को गुनेगार समझने लगता है। वो बच्चा अपने जीवन में कभी सफल नहीं हो सकता। 



बच्चे को झूठ बोलने से कैसे रोके ?

इसलिए parents को ये चाइये की वो अपने बच्चो को डाट ने से पहले समझने की कोशिश करे की वो झूठ क्यों बोल रहा है ? यदि हम ये समजे तो मैं दावे के साथ कह सकती हु की उसकी जड़ कही न कही हम ही होंगे। हमें देख कर या हम से डर कर ही बच्चा झूठ बोलता होगा। 

याद रहे एक आदर्शबच्चा एक आदर्श parents से ही मिलता है। हम अपनी छोटी छोटी स्वार्थ पूर्ति करने के लिए बोल रहे छोटे छोटे झूठ अपने बच्चो में डाल रहे है।

 झूठ बोलने की जगह यदि हम सच बोल दे की अभी हमें बहार जाना है। तो हो सकता ही की हमारे friend या relative को बुरा लगे पर हमारे बच्चो पर उसका एक positive असर जरूर होगा। २५-५० रूपया यदि न बचे तो कोई बात नहीं पर हमारे बच्चे की मानसिकता जो होगी वो अनमोल होगी। 

झूठ बोल कर हम किसी और को उल्लू नहीं बना रहे पर अपने आप को ही उल्लू बनाते है। क्योकि आपके जूथ के कारन कोई एक बार उल्लू बनेगा, पर आप के ऊपर का विश्वास वो हमेशा के लिए खो बैठेगा। तो नुकसान किसको है ये ज़रा सोच लीजियेगा। 

बच्चे को झूठा नहीं बल्कि talented बनाये। उसके उपर विश्वास रखे। उसको ये अहसास दिलाये की उसकी गलती एक गलती है कोई जुर्म नहीं। आप उसके साथ हमेशा है। ये विश्वास बच्चे को हमेशा झूठ बोलने से रोकेगा। 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Yeh Rishta Kya Kehlata Hai / रिश्ता किसे कहते हैं ?

  रिश्ता किसे कहते हैं ?/rishta kise kahate hain. rishte ehsas ke hote hain दोस्तों, आज कल 'ये रिश्ता क्या कहलाता है' फेम दिव्या भटनागर बहुत चर्चा में है। उसकी मौत तो covid 19 के कारन हुई है।  लेकिन उसके परिवार और friends के द्वारा उसके पति पर उनकी मौत का इल्जाम लगाया जा रहा है। ( हम यहाँ किसी पर भी आरोप नहीं लगाते, ये एक जांच का विषय है। )  ऐसा ही कुछ सुंशांत सिंह राजपूत के मौत के वक्त भी हुआ था। उनके मृत्यु के बाद उनके परिवार और friends ने भी ऐसे ही किसी पर आरोप लगाया था। उनकी मौत का जिम्मेदार माना था।  इनकी स्टोरी सच है या क्या जूठ ये हम नहीं जानते, न ही हम उसके बारे में कोई discussion करेंगे।  मगर ये सुनने के बाद एक विचार मेरे मन में ये सवाल उठा की ये हो-हल्ला उनकी मौत के बाद ही क्यू ? उनसे पहले क्यों नहीं? अब ऐसा तो नहीं हो सकता की उनके रिश्तेदारों को इस चीज़ के बारे में बिलकुल पता ही न हो?  ये बात केवल दिव्या भटनागर या सुशांत सिंह राजपूत की ही नहीं है। ये दोनों की story तो इसलिए चर्चा में है, क्योकि ये दोनों काफ़ी successful हस्तिया थी।  मगर हमने अपने आसपास और समाज में भी ऐ

5 Tips Life me Khush Kaise Rahe In Hindi

   life me khush rehne ke tarike/ happy life tips in hindi दोस्तों, जब से ये दुनिया बनी है तब से आदमी की एक ही इच्छा रही है के वे अपने जीवन में हमेश खुश रहे। चाहे वो पाषाण युग हो या आजका 21st century हो। हमारा हर अविष्कार इसी सोच से जन्मा है। चमच्च से ले कर रॉकेट तक हमने इसीलिए बनाये है ताकि हम अपने जीवन में खुश रहे।  आज 21st century में तो हमारे जीवन को आसान और खुश रखने के लिए  gadgets की तो मानो बाढ़ सी आ गयी है। चाहे घर का काम हो या ऑफिस का चुटकि बजा कर हो जाता है। घर बैठे मिलो दूर अपने अपनों से न केवल बात कर सकते है मगर उसको देख भी सकते है।  आज internet ने अपना साम्राज्य इस कदर फैलाया है की, दुनिया के किसी भी कोने में क्या हो रहा है वो आप दुनिया के किसी भी कोने में बेठ कर देख सकते है। आज से पहले इतनी सुविधा कभी पहले नहीं थी। हर बात में आज का युग advance है।  शायद ही ऐसा कोई मोर्चा हो जहा पर हम ने तरक्की न करी हो। पर अब सवाल ये उठता है की इतनी तरक्की करने के बाद क्या हमने वो हासिल किया है जिसके लिए हमने इतनी तरक्की करी है? आज हमारे पास सबसे बढ़िया गाड़ी है, घर है, कपडे है, घडी है, जुते

kya bacho ko mobile dena chahiye?

  क्या बच्चो के लिए खतरनाक है मोबाइल? दोस्तों, क्या बच्चो को मोबाइल देना चाहिए? ये सवाल आज के युग का एक बहोत ही बड़ा सवाल है। हर माँ बाप को ये सवाल सताता है की क्या हमें अपने बच्चो को मोबाइल देना चाहिए या नहीं ? इस पर एक लम्बी चौड़ी कभी न ख़तम होने वाली बहेस होती है और होती रहेगी। लेकिन यहाँ कुछ point पर ध्यान देना भी बहुत ही जरुरी है।  सबसे बड़ा सवाल ये है की बच्चो को मोबाइल की क्या जरुरत है? मोबाइल का उपयोग हम आमतौर पर किसी से बाते करने में, अपने ऑफिस वर्क के लिए या लोकशन सर्च के लिए होता है। ये सारे ज़रूरी काम है जो बिना मोबाइल के नहीं हो सकता राइट? तो अब सवाल ये उठता है की बच्चो को मोबाइल क्यों जरुरी है? बच्चो को नहीं किसी से जरुरी बात करनी होती है, और न ही ऐसा कोई काम जो बिना मोबाइल के पूरा न होता हो। बाहर वो हमारे साथ जाता है। पूरा दिन वो स्कूल या collage में अपने friends के साथ  होता है, और यदि  कुछ काम हो तो वो हमारा फ़ोन use कर सकता है। मुझे नहीं लगता की ऐसा कोई एक कारन हो,  जिसकी बजह से हमें अपने बच्चो को उनका खुद का मोबाइल खरीदकर देना पड़े।   दोस्तों, हम अपने बच्चो को मोबाइल क्यों