सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

dukh ka karan kya hota hai ? happy life tips in hindi

 दुख का एकमात्र कारण -अपेक्षा/कामना💐

HAPPY LIFE IS NOT A MIRACLES BUT LIVE HAPPY LIFE IS ART.
 happy life tips in hindi


दोस्तों, हम सब ने हमारे जीवन में ऐसे व्यक्ति हमेशा देखे होंगे जो हमशा दुखी ही रहते है। आप उनके लिए कुछ भी कर लो वो कभी भी खुश रह ही नहीं सकते। उनको हमशा अपने जीवन से, अपने आस पास के व्यक्ति से यहाँ तक की भगवान से भी शिकायते ही रहती है। 

ऐसा नहीं होता की उनके पास कुछ भी नहीं होगा। उनके पास सबकुछ होता है। उनके पास सबकुछ  होता है। अच्छी नौकरी, अच्छा परिवार, घर, परिजन। सब कुछ होने के बाद भी उनके जीवन में हमेशा असंतोष और दुःख ही रहता है। 

 वही दूसरी और ऐसे व्यक्ति भी देखे है जिन के चारे पर कभी भी मुस्कराहट हटती ही नहीं। जब भी देखो वो हमेशा खुश ही।  चाहे उनके जीवन में कितनी भी समस्या क्यों न हो वो हमेशा खुश ही दिखाई देते है। 

हलाकि आज कल ऐसे लोग कंही है जो हर हल में खुश रहते हो। पर ऐसे लोग होते है ये हकीकत है। अब सवाल ये उठता है की ऐसा क्यों ?

दोस्तो, हम  चाहे माने या ना माने पर सुख और दुःख कई बार केवल हमारे नजरिये पर depend होता है। एक ही बात पर कोई खुश भी रहता है और वही बात पर कोई दुखी भी हो जाता है। 

इस बात को हम एक कहानी के माध्यम से समज ते है। तो शायद उसे समझना हमारे लिए आसान हो जाये। 

एक बार एक सेठजी ने पंडित जी को भोजन के लिए आमन्त्रित किया पर पंडित जी का एकादशी का व्रत था तो पंडित जी नहीं जा सके थे इसलिए पंडित जी ने अपने दो शिष्यो को सेठजी के यहाँ भोजन के लिए भेज दिया.

पर जब दोनों शिष्य वापस लौटे तो उनमे एक शिष्य दुखी और दूसरा प्रसन्न था!

पंडित जी को देखकर आश्चर्य हुआ और पूछा बेटा क्यो दुखी हो -- क्या सेठ ने भोजन मे अंतर कर दिया ? 

"नहीं गुरु जी" 

क्या सेठ ने आसन मे अंतर कर दिया ? 

"नहीं गुरु जी" 

क्या सेठ ने दक्षिणा मे अंतर कर दिया ? 

"नहीं गुरु जी ,बराबर दक्षिणा दी 2 रुपये मुझे और 2 रुपये दूसरे को"

अब तो गुरु जी को और भी आश्चर्य हुआ और पूछा फिर क्या कारण है ?

जो तुम दुखी हो ?

तब दुखी चेला बोला गुरु जी मे तो सोचता था सेठ बहुत बड़ा आदमी है कम से कम 10 रुपये दच्छिना देगा पर उसने 2 रुपये दिये इसलिए मे दुखी हू !!

अब दूसरे से पूछा तुम क्यो प्रसन्न हो ?

तो दूसरा बोला गुरु जी मे जानता था सेठ बहुत कंजूस है आठ आने से ज्यादा दच्छिना नहीं देगा पर उसने 2 रुपए दे दिये तो मे प्रसन्न हू ...!

बस यही हमारे मन का हाल है संसार मे घटनाए समान रूप से घटती है पर कोई उनही घटनाओ से सुख प्राप्त करता है कोई दुखी होता है ,पर असल मे न दुख है न सुख ये हमारे मन की स्थिति या अपेक्षा के स्तर पर निर्भर है!

कामना पूरी न हो तो दुख और कामना पूरी हो जाये तो सुख पर यदि कोई कामना ही न हो तो आनंद ...

दोस्तों, हमारी ख़ुशी हमने हमेशा दुसरो के हाथ में रखी है। हम हमेश से दुसरो पर अपेक्षा रखते है। साथ में ये आशा भी रखते है की वो आशा पूर्ण भी हो। पर हमेशा दुसरो पर हुई आशा पूरी  नहीं होती। इसलिए  हमेशा हम दुखी ही रहते है। 

हमने कईबार  बीवी, पति, बच्चे, बॉस यहाँ तक की पड़ोसियों की बजहसे अपने आपको दुखी मानते हुआ लोगो को भी देखा है। ऐसा क्यों ? किसी बीवी ख़राब होने से या बच्चे ख़राब होने से या किसी और के ख़राब  होने से वो इतना दुखी क्यों होता है ?

क्योकि वो उसमे हमेशा कमियों को ही देखता है। उसकी एक कमी पर ही उसका ध्यान है। उसकी बाकि की अच्छाइया पर उसका ध्यान ही नहीं है या ये  कहे की वो देखना ही नहीं चाहता।  

वही दूसरी और हमने ऐसे लोगो को भी देखा है जिनके चेहरे पर से मुस्कान कभी जाती ही नहीं।  चाहे उनके जीवन में कितनी भी विकट परिस्थितिया क्यों न आ जाये पर वो हमेशा हसते ही रहते है। उनके जीवन में चाहे लाख मुसीबते क्यों न हो वो कभी किसी को भी दोष नहीं देंगे। 

चाहे किसी ने उनके साथ कितना भी बुरा क्यों न किया हो पर  उनको किसी से कोई शिकायते नहीं रहती। क्योकि ऐसे लोगो ने अपनी खुशिया किसी दूसरे के हाथ में नहीं दी है। उनकी ख़ुशी उनके अपने हाथ में है। उनका फोकस problem पर नहीं बल्कि solution पर होता है। 

 याद रहे जितनी ज्यादा अपेक्षा हम दुसरो पे रखेंगे उतने ही हम ज्यादा दुखी होंगे। जब हम अपने आपको खुश नहीं कर सकते तो हम दुसरो पर ये आशा कैसे रख सकते है ? हमारी ख़ुशी हमारे हाथो में होनी चाहिए। न की दुसरो पर। 

जिस दिन हमने अपनी खुशिया की जिम्मेदारी अपने हाथो में ले ली उस दिन हमें कोई दुखी कर ही नहीं सकता। उस दिन हम सच में अपना जीवन जियेंगे। 

Best quotes

NO ONE CAN MAKE YOU HAPPY, UNTIL YOU ARE HAPPY YOUR SELF.

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Yeh Rishta Kya Kehlata Hai / रिश्ता किसे कहते हैं ?

  रिश्ता किसे कहते हैं ?/rishta kise kahate hain. rishte ehsas ke hote hain दोस्तों, आज कल 'ये रिश्ता क्या कहलाता है' फेम दिव्या भटनागर बहुत चर्चा में है। उसकी मौत तो covid 19 के कारन हुई है।  लेकिन उसके परिवार और friends के द्वारा उसके पति पर उनकी मौत का इल्जाम लगाया जा रहा है। ( हम यहाँ किसी पर भी आरोप नहीं लगाते, ये एक जांच का विषय है। )  ऐसा ही कुछ सुंशांत सिंह राजपूत के मौत के वक्त भी हुआ था। उनके मृत्यु के बाद उनके परिवार और friends ने भी ऐसे ही किसी पर आरोप लगाया था। उनकी मौत का जिम्मेदार माना था।  इनकी स्टोरी सच है या क्या जूठ ये हम नहीं जानते, न ही हम उसके बारे में कोई discussion करेंगे।  मगर ये सुनने के बाद एक विचार मेरे मन में ये सवाल उठा की ये हो-हल्ला उनकी मौत के बाद ही क्यू ? उनसे पहले क्यों नहीं? अब ऐसा तो नहीं हो सकता की उनके रिश्तेदारों को इस चीज़ के बारे में बिलकुल पता ही न हो?  ये बात केवल दिव्या भटनागर या सुशांत सिंह राजपूत की ही नहीं है। ये दोनों की story तो इसलिए चर्चा में है, क्योकि ये दोनों काफ़ी successful हस्तिया थी।  मगर हमने अपने आसपास और समाज में भी ऐ

5 Tips Life me Khush Kaise Rahe In Hindi

   life me khush rehne ke tarike/ happy life tips in hindi दोस्तों, जब से ये दुनिया बनी है तब से आदमी की एक ही इच्छा रही है के वे अपने जीवन में हमेश खुश रहे। चाहे वो पाषाण युग हो या आजका 21st century हो। हमारा हर अविष्कार इसी सोच से जन्मा है। चमच्च से ले कर रॉकेट तक हमने इसीलिए बनाये है ताकि हम अपने जीवन में खुश रहे।  आज 21st century में तो हमारे जीवन को आसान और खुश रखने के लिए  gadgets की तो मानो बाढ़ सी आ गयी है। चाहे घर का काम हो या ऑफिस का चुटकि बजा कर हो जाता है। घर बैठे मिलो दूर अपने अपनों से न केवल बात कर सकते है मगर उसको देख भी सकते है।  आज internet ने अपना साम्राज्य इस कदर फैलाया है की, दुनिया के किसी भी कोने में क्या हो रहा है वो आप दुनिया के किसी भी कोने में बेठ कर देख सकते है। आज से पहले इतनी सुविधा कभी पहले नहीं थी। हर बात में आज का युग advance है।  शायद ही ऐसा कोई मोर्चा हो जहा पर हम ने तरक्की न करी हो। पर अब सवाल ये उठता है की इतनी तरक्की करने के बाद क्या हमने वो हासिल किया है जिसके लिए हमने इतनी तरक्की करी है? आज हमारे पास सबसे बढ़िया गाड़ी है, घर है, कपडे है, घडी है, जुते

True success in life (जिस थाली में खाना उसी में छेद करना )

m   जिस थाली में खाना उसी में छेद करना  सं सद से ले के हर गली चौराहे पर ये मुहावरा बड़ा प्रचलित हो रहा है। जिसका कारण है हमारे लीजेंड जया बच्चनजी। (मैं यहाँ किसी का समर्थन या असमर्थन नहीं करती ) संसद में उनका बयांन सुनने और न्यूज़ चैनल में डिबेट सुनने के बाद मैं यही सोचती रही की, अगर इस प्रचलित मुहावरे लोकोक्तियों  का असली मतलब निकलना हो तो क्या निकाल सकते है?   इसका सिंपल सा अर्थ होता है की जिसके कारण आप success हुए है उसको बदनाम करना। मगर अब सोच ने की बात ये है की जीस संस्था या  इंडस्ट्रीज़  के द्वारा आप सफल हुए हो। जिसके कारन आपकी एक success images बानी हो। उसको कोई नुकसान पहुंचाए उस समय गलत को गलत कहे ना थालीमें छेद करना होगा या चुप चाप उस संस्था को या उस  इंडस्ट्रीज़  को बर्बाद होता देखना थाली में छेद करना होगा? क्योकि अगर देखा जाये तो दोनों को ही थाली में छेद करना ही कहेंगे।  तो क्या करे? उसको एक बहुत ही सिंपल way मैं अगर समजे तो मान लीजिये आपका एक भरा पूरा परिवार है। उसमे एक भाई दूसरे भाई का बुरा करता है, मगर जो भाई दूसरे का बुरा करता है ऊसके आपके साथ सम्बन्थ बहुत ही अच्छे है और ज